क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर पंजाब की रातनीति फिर गर्मा गई है. सिद्धू ने राहुल गांधी के बाद अब पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को भी अपना इस्‍तीफा भेज दिया है. जिसके बाद से सियासत की जंग और भी उबाल लेती जा रही है. इसी बीच पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की. वैसे तो अमरिंदर और पीएम की इस मुलाकात को सियासी अटकलों के बीच राजनीतिक मुद्दों से जुड़ा बताया जा रहा है. हालांकि हालांकि सियासी अटकलों को विराम देते हुए कैप्टन ने प्रधानमंत्री से इस मुलाकात को सद्भावना भेंट करार दिया है.

जरुर पढ़ें:  सरकार ने आम बजट में कि असंगठित क्षेत्र के लिए कई घोषणा, जानिए क्या इससे लोगों को होगा फायदा

इसके साथ मुख्यमंत्री ने नवजोत सिंह सिद्धू के मंत्री पद से इस्तीफे पर भी पहली बार प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा, ‘मुझे उनसे कोई समस्या नहीं थी. मंत्रिमंडल विस्तार में मैंने उनको बेहद अहम मंत्रालय दिया था. कैबिनेट से इस्तीफे का फैसला उनका है. मुझे बताया गया है कि उनका इस्तीफा मेरे दफ्तर पहुंच चुका है. मैं उसे देखूंगा फिर आगे के कदम पर फैसला करूंगा.’

इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘मैंने कभी भी नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू का विरोध नहीं किया. मैं ही वह शख्स था, जिसने राहुल जी से सिफारिश की थी कि नवजोत कौर सिद्धू बठिंडा से चुनाव लड़े. लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू बठिंडा से नहीं बल्कि चंडीगढ़ से चुनाव लड़ेंगी. जबकि यह तय करना उनका काम नहीं था, पार्टी इन चीजों को तय करती है.’

जरुर पढ़ें:  मंत्री पद से इस्तीफे के बाद अब सिद्धू ने खाली किया सरकारी बंगला..

आपको बता दें कि पंजाब के मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल के बाद नेता नवजोत सिंह सिद्धू पार्टी से लंबे समय से खफा चल रहे हैं इसी के चलते अब सिद्धू ने कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है. 55 वर्षीय सिद्धू ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को संबोधित अपने इस्तीफे को रविवार को ट्विटर पर सार्वजनिक किया. इस इस्तीफे पर 10 जून की तारीख लिखी है.

उधर सिद्धू के मंत्री पद छोड़ते ही आम आदमी पार्टी (आप) जोश में आ गई है. इस्तीफे के तुरंत बाद उन्हें आप की तरफ से पार्टी में शामिल होने का न्योता दिया गया है. आप नेता हरपाल सिंह चीमा ने इंडियन एक्सप्रेस से एक वीडियो मेसेज में कहा कि ‘पार्टी ऐसे लोगों का स्वागत करती है जिन्हें राज्य की चिंता है. जो युवाओं और किसानों के बारे में सोचते हैं. हम सिद्धू का पार्टी में स्वागत करेंगे.’

जरुर पढ़ें:  FACT CHECK : क्या रामदेव ने करवाया जर्मनी में अपने घुटने का ऑप्रेशन ?

 

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here