पांच राज्यों में होने वाले विधान चुनाव को लेकर पार्टीयों के नेता वोटरों को लुभाने के लिए तरह तरह के पैंतरे अपना रहे हैं. और चुनाव प्रचार में कोई कोर कसर न रह जाए इसके लिए भी नई-नई नीति अपनाकर चुनाव प्रचार में जुटे हुए हैं. लेकिन खास बात ये है कि हर बार चुनाव प्रचार के दौरान वोटरों को लुभाने के लिए उम्मीदवारों का एक न एक नया बहरूपया वाला चेहरा जरूर देखने को मिलता है.

इस बार भी ऐसा ही चुनाव प्रचार का एक अजीबोगरीब नजारा तेलंगाना से सामने आया है. जहां वोटर्स को लुभाने के लिए एक उम्मीदवार ने बेहद ही अनोखा तरीका अपनाया है. जिसे देखकर आप भी हैरान रह जायेंगे. दरअसल तेलंगाना में कोरुतला विधानसभा सीट से अकुला हनुमंत नाम के निर्दलीय उम्मीदवार. घर-घर जाकर लोगों को एक-एक चप्पल बांटते हुए नज़र आए. इसके साथ ही वो लोगों से कह रहे हैं कि अगर चुनाव जीतने के बाद मैं अपने वादे पूरे न करू तो मुझे इसी चप्पल से पीटना.

जरुर पढ़ें:  पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीख तय, नतीजों का इस तारीख को होगा ऐलान..
अकुला हनुमंत निर्दलीय उम्मीदवार

हैरान करने वाली तो ये है कि इस दौरान जब नेता जी ने एक महिला को चप्पल पकड़ाने का प्रयास किया तो पहले महिला खूब हंसने लगी और फिर बाद में उसने चप्पल को पकड़ लिया. इस दौरान नेता जी के साथ एक कार्यकर्ता पेटी में चप्पल लेकर साथ- साथ चलता हुआ नज़र आया. आपको बता दें कि कोरुतला सीट पर हनुमंत का मुकाबला तीन बार विधायक चुने गए टीआरएस के नेता विद्या सागर राव से है.

दरअसल ये पहला मामला नहीं जब किसी उम्मीदवार ने वोटरों को लुभाने के लिए बहरूपया जैसा काम किया हो. हालही में ऐसा ही एक नजारा मंदसौर में देखने को मिला जहां बीजेपी प्रत्याशी यशपाल सिंह सिसोदिया वोटरों को लुभाने के लिए गुरुद्वारे के एक समारोह में पहुंचे तो वहां वो रोटी बेलने बैठ गए.

जरुर पढ़ें:  कांग्रेस गई चुनाव आयोग के पास, बीजेपी की समृद्ध मध्यप्रदेश अभियान खटाई में

इसके अलावा मध्य प्रदेश के दमोह जिले के पटेरा में एक जनसभा के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया नींबू मिर्च की माला पहनते हुए नज़र आए. जिन्हे देखकर लोग हैरत में पड़ गए. उन्होंने इस माला को पहनने का कारण भी बताया. सिंधिया ने कहा कि मंदसौर गोली कांड के समय मैंने प्रण लिया था कि जब तक किसान विरोधी शिवराज सरकार को हटा नहीं लेता हूं, तब तक फूलों की माला नहीं पहनूंगा.

Loading...