लोकसभा चुनाव से पहले गांधी परिवार से प्रियंका गांधी वाड्रा की सक्रिय राजनीति में एंट्री का कुछ लोग स्वागत कर रहे हैं तो कोई इस फैसले का विरोध कर रहे हैं. प्रियंका गांधी को कांग्रेस का महासचिव बनाए जाने और सक्रिय राजनीति में कदम रखने के फैसले पर समाजवादी पार्टी के मुखिया और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पहली प्रतिक्रिया आई है. प्रियंका गांधी की एंट्री को अखिलेश यादव ने कांग्रेस और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी का सही फैसला बताया है. दरअसल, बुधवार को प्रियंका गांधी को कांग्रेस ने पार्टी का महासचिव बनाया और पूर्वी यूपी की कमान भी सौंपी. इकने अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी पश्चिमी यूपी का प्रभारी बनाया गया है.

जरुर पढ़ें:  बीजेपी के साथ नहीं बनी कुशवाहा की बात, RLSP अकेले लड़ रही है चुनाव

शनिवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि ‘युवाओं को मका दिया जा रहा है, इससे समाजवादी पार्टी खुश है. मैं कांग्रेस पार्टी और उनके अध्यक्ष को इसके लिए बधाई देना चाहता हूं कि उन्होंने सही फैसला लिया.’ माना जा रहा है कि सपा-बसपा गठबंधन से कांग्रेस को अलग रखने के बाद ही राहुल गांधी ने बहन प्रियंका गांधी को राजनीति में उतारने का फैसला लिया है. उन्हें उम्मीद है कि प्रियंका गांधी की एंट्री से यूपी में कांग्रेस की जड़ें मजबूत होंगी.

शुक्रवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रियंका गांधी की राजनीति में प्रवेश पर तंज कसा और कहा ‘जीरो प्लस जीरो बराबर जीरो’ होता है यानी अगर शून्य में शून्य को जोड़ा जाए तो शून्य ही होता है. सीएम योगी ने कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि प्रियंका जी राजनीति में उतरी हों. इससे पहले भी वह 2014 और 2017 में पार्टी के लिए यूपी में काम कर चुकी हैं. लेकिन उसका कांग्रेस को कितना फायदा हुआ था यह सभी को पता है. इस बार भी परिणाम पहले जैसा ही रहने वाला है. उन्होंने कहा कि प्रियंका जी के राजनीति में आने से बीजेपी पर किसी तरह का असर नहीं पड़ने वाला है.

जरुर पढ़ें:  राम मंदिर को लेकर सीएम योगी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव आमने-सामने!

दरअसल, प्रियंका गांधी को कांग्रेस ने ऐसे वक्त में राजनीति में उतारा है, जब यूपी में वह पूरी तरह से अकेली है. बसपा-सपा गठबंधन से कांग्रेस को अलग किये जाने के बाद राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी को पूर्वी यूपी और ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिमी यूपी का जिम्मा दिया. कांग्रेस को इस बात की उम्मीद है कि प्रियंका की वजह से कांग्रेस की स्थिति सूबे में सुधरेगी और वह यूपी में मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने में कामयाब होगी.

Loading...