काशी  का नाम सुनते ही पीएम मोदी को चाहने वालों की आवाज कानों में गंजने लगती है.चुनावी माहौल में जब हमने वाराणसी का दौरा किया था.तब हमने लोगों में नरेंद्र मोदी को लेकर जो दिवानी देखी थी.वो पीएम मोदी के काम को साफ साफ जाहिर कर रही थी.वाराणसी में युवा हो या महिलाओं हर कोई पीएम मोदी के राज में खुद को सुरक्षित महसूस करता है.पूरे देश में चला मोदी है तो मुमकिन है का नारा.हकीकत में तब्दील हुआ जब.चुनावी नतीजों में बीजेपी को प्रंचड बहुमत से जीत मिली.और पीएम मोदी को एक बार फिर वाराणसी के लोगों की सेवा करने का मौका मिला.और भला मिलता भी क्यों ना पीएम मोदी ने वाराणसी में महिलाओं के लिए जो काम किया वो वाकई सरहाने लायक है.जी हां नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में सैकड़ों महिलाओं की जिंदगी पापड़ बदल रहा है.हो सकता है कि यह सुनकर आप भी हैरान रह गए हों लेकिन यह हकीकत है.और इस बात की गवाह एक दो नहीं बल्कि सैकड़ों महिलाएं हैं. जो पापड़ बेलकर जिंदगी अपनी गुजार रही हैं.ग्रामीण महिलाओं की किस्मत बदलने का काम उस गांधी आश्रम के जरिए हो रहा है. जो दो दशकों तक बंद पड़ा था.

जरुर पढ़ें:  जानिए किन खूबियों के कारण जेपी नड्डा बने बीजेपी के नए अध्यक्ष..

जी हां हम बात कर रहे है.वाराणसी से 26 किलोमीटर दूर 12 एकड़ में फैला सेवापुरी आश्रम की.जिसका नाम देश के बड़े खादी केंद्रों में शूमार था.पर आर्थिक परेशानियों के चलते इसे 1990 में बंद कर दिया गया.जिसके बाद हजारों लोग बेरजगार हो गए.लेकिन प्रधानमंत्री ही ऐसे शख्स है जिन्होंने 26 साल बाद इस आश्रम को खुलवाया.पीएम मोदी के आदेश पर 17 सितंबर 2016 को खास नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के दिन इसे फिर चालू  किया गया.अब इस आश्रम में 200 सोलर चरखे और 80 सोलर लूम. एक आधुनिक सिलाई केंद्र और नमक बनाने वाली इकाई चल रही है. इसके चालू होने से सैकड़ों महिलाओं को पापड़ बनाने का रोजगार मिल गया है. सैकड़ों महिलाएं यहां से कच्चा माल ले जाकर घर से पापड़ बनाकर लाती है.इसके बदले उन्हें रोजाना तीन से चार सौ रुपए की आमदनी  मिलती है.

जरुर पढ़ें:  BSF के जवान तेज बहादुर का वीडियो आया सामने, बोले, "50 करोड़ दो, मोदी को मरवा दूंगा"

सेवापुरी गांधी आश्रम दुबारा चालू होने के बाद लिज्जत पापड़ ने भी अपनी यूनिट डाल दी है..पापड़ बनाकर महिलाएं आत्मनिर्भर बनने की राह पर किस तरह उत्साहित हैं. ये उसकी जीता जागती एक मिसाल है.पापड़ बेलने वाली कुछ महिलाओं ने एक इंटरव्यू में बताया कि आश्रम दुबारा शुरु होने से उनकी जिंदगी में बड़ा बदलाव आ गया है.ज्यादातर महिलाएं रात के समय यहां से  पापड़ के लिए आटा ले जाती है.और फिर उसे घर ले जाकर बनाती है.
पीएम मोदी ने वाराणसी में महिलाओं के लिए जो काम किया उससे मोदी सरकार पर महिलाओं का भरोसा पहले से भी ज्यादा बढ़ गया है.महिलाओं को लेकर पीएम मोदी के काम पर आप की क्या राय है हमें कमंट बॉक्स में जरुर बताएं.

जरुर पढ़ें:  116 प्रोफेसर नही कर पाए VVPAT-EVM की परिक्षा पास, जिलाधिकारी ने जारी किया कारण बताओ नोटिस..

 

ReplyForward

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here