2019 के लोकसभा चुनाव का आगाज हो चुका है ऐसे में ये चुनाव हर तरीके से खास है. कई नए चेहरे मैदान में उतरे तो कई पार्टियां पूराने नेताओं पर दाव अजमा रही हैं. लेकिन इन सबके बीच चुनाव में कुछ नाम ऐसे भी है जो हमेशा से चर्चाओं में बने रहते हैं, उनकी हर मुद्दे पर बेबाक आवाज ही समाज में उनकी पहचान है. जेएनयू में छात्र संघ के अध्यक्ष रहे कैन्हया कुमार लंबे समय से विवादों में रहे है लेकिन इस बार कैन्हया बेगूसराय की धरती को बदलने निकल पड़े है यूं तो कन्हैया पर धार्मिक सद्भाव बिगाड़ने, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने, अनाधिकृत सभा करने और धारा 124 A के तहत नारेबाजी करने के 5 आपराधिक मामले दर्ज हैं, जो अभी भी लंबित हैं राष्ट्रद्रोह के आरोप में कैन्हया एक बार जेल भी जा चुके है लेकिन इन सबके बीच उन्होंने चुनावी मैदान में उतरने का फैसला लिया है और बिहार की वो उसी बेगुसराय सीट से चुनाव लड़ रहे है जहां उनका जन्म हुआ ।

जरुर पढ़ें:  अब कपड़ों पर भी 'मैं भी चौकीदार' स्लोगन व्यापारी पहुंचे चुनाव आयोग ।


बेगूसराय में सीपीआई को काफी समर्थन दिया जाता है, इसलिए कैन्हया ने सीपीआई पार्टी से चुनाव लड़ने का फैसला लिया है लेकिन यहां कैन्हया का चुनाव जीतना थोड़ा मुश्किल भी हो सकता है क्योंकि यहां उनका मुकाबला NDA के गिरिराज सिंह और मगागठबंधन के तनवीर हसन से होगा लोकसभा चुनाव 2019 में बेगूसराय लोकसभा सीट से बतौर सीपीआई उम्मीदवार कन्हैया कुमार ने नामांकन पर्चा भर दिया है. आयोग को दिए जानकारी में एक बड़ी दिलचस्प बात देखने को मिली क्या अगर आप खुद को बेरोजगार बताते है तो आप के खाते में साल की आय 63,0360 रुपये कैसे हो सकती है आयोग को दी जानकारी में कैन्हया ने खुद को बेरोजगार और स्वतंत्र लेखक बताया है. कन्हैया ने आय का स्रोत किताबों और व्याख्यानों से प्राप्त रॉयल्टी को बताया है उन्होंने आयोग को बताया है कि उनके पास खुद की कोई जमीन और घर नहीं है, बीहट में विरासत में मिली 1.5 डिसमिल की गैर कृषि जमीन हैं. उनके एक खाते में 50 रुपये हैं जबकि दूसरे में 1, 63, 648 रुपये हैं.हालांकि कैन्हया के समर्थकों की कमी नहीं है उनकी रैली में उमड़े जनसैलाब ने उनकी जीत का रास्ता आसान कर दिया  है. आपको बता दें कि बिहार में सातों चरणों में वोट डाले जाएंगे, लेकिन इस बीच बेगूसराय के चुनाव हर तरीके से दिलचस्प होगें,देखना होगा कि बेगूसराय में कैन्हया का जादू चलता है या फिर मोदी की कमल खिलेगा ।

जरुर पढ़ें:  नतीजों से पहले विदेशों में भी मोदी की जीत की खुशी, 'आएंगा तो मोदी ही'.......

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here