एक महफिल सजी है, जिसमें सातों सिंगार में महिलाओं की टोली जमी है, सज- सवरकर बैठी महिलाएं, सिर पर बीजेपी की टोपी लगाए, भगवान के सामने एक गीत गा रही है, पर ये गीत भगवान के नाम पर नहीं बल्कि देश के प्रधानमंत्री मोदी जी के नाम पर है. आप देख सकते है, मोदीजी के भक्ति में डूबी महिलाएं भक्ति में इतना विलीन हो गई, कि भगवान राम- सीता और राधा- कृष्ण को भी बीजेपी के रंग में रंग दिया. भगवा रंग से सजी महिलाओं की ये महफिल बीजेपी के चुनाव प्रचार का एक अलग ही तरीका बया कर रही है, जिसमें महिलाएं मोदी जी के नाम पर एक गीत गा रही है ।

जरुर पढ़ें:  पीएम मोदी के इंटरव्यू पर फिर मचा बवाल, क्या सच में मोदी 1988 में कर चुके है ई-मेल डिजिटल कैमरे का इस्तेमाल

अरे महफिल अभी यही खत्म नहीं हुई, ज़रा एक बार घर की अलमारी पर नजर डालिए जंहा भगनाव की कई मूर्तियों के साथ मोदी जी का भी एक बड़ा सा पोस्टर भी लगा है, चारों तरफ लाइटस से सजी महफिल में भगवा रंग की चंमक ही अलग है. साथ ही घर के टीवी पर भगवा रंग के दो पोस्टर भी लगे है. जिसमें लिखा हैं-‘घर- घर भगवा जाएगा, राम राज फिर आएगा’ तो वहीं दूसरे पोस्टर में लिखा हैं- ‘एक दो तीन चार मोदी जी बार- बार’ लेकिन क्या ये महिलाएं भक्ति में इतना खो गई कि इन्होंने भगवान को भी भगवा रंग में रंग दिया है, और भगवान के सामने मोदी जी के वापस चले आने की कामना करने लगी मोदी जी वापस चले आना का मतलब है 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी जी जीतकर आना ।

जरुर पढ़ें:  संसद में एक साथ नहीं बैठेंगे हेमा मालिनी और सनी देओल, क्या हैं कारण ?

अब लोकसभा चुनाव से महज दो दिन पहले मोदी के भक्त भाजपा को जीतने के लिए भगवान के सामने मोदी जी के वापस आने की कामना कर रहे है, या फिर यूं कहें मोदी जी को ही भगवान समझ बैठे हैं भगवान के नाम पर राजनीति किस हद तक सही है ।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here