2019 लोकसभा चुनाव में बस कुछ दिन बचे हैं, और चुनावी नोटंकी भी शुरु हो चुकी है कभी बीजेपी सांसद हेमा मालिनी सज- सवरकर शिफॉन की साड़ी लपेटे खेतों में पहुंचकर लोगों से उनका हाल जानती है.हमारे नेता चुनाव में प्रचार के अलग– अलग तरीके अपना रहे है.जिससे वो ना सिर्फ मीडिया में बने रहे बल्कि वोटरों को एक खास संदेश भी दे सके लेकिन संबित पात्रा के सिर पर चुनाव का जोश इस कदर सवार था कि उन्होंने एक वीडियो शेयर कर खुद ही पीएम मोदी सरकार की ‘उज्जवला योजना’ की पोल खोल डाली ।

ओडिशा के पूरी से चुनावी मैदान में उतरे संबित पात्रा लोगों के बीच उनका हाल जानने पहुंचे तो उन्होंने मोदी के लिए ही मुश्किल खड़ी कर दी गरीबों के बीच खाना खाकर बीजेपी प्रवक्ता और पूरी से उम्मीदवार संबित पात्रा ये संदेश देने की कोशिश कर रहे थे कि भाजपा उनके लिए सबसे बेहतर विकल्प संबित पात्रा जिस वीडियो के जरिए अपने चुनावी अभियान की झलक लोगों को बता रहे हैं, उससे खुद मोदी सरकार की सबसे बड़ी योजना की पोल खुल गई ।

जरुर पढ़ें:  साध्वी प्रज्ञा के बिगड़े बोल, बाबरी मस्जिद पर की अमर्यादित टिप्पणी..

 

पुरी में जीत हासिल करने के लिए कभी संबित पात्रा भगवान जदन्नाथ की मूर्ति हाथ में रखकर नामांकन दाखिल करते हैं तो कभी गरीबों के हैताषी बनकर उनके घर खाना – खाने पहुंच जाते है लेकिन इसी बीच संबित पात्रा ने गरीबों के साथ भोजन करने वाला वीडियों शेयर किया तो पीएम मोदी की सबसे बड़ी उज्जवाला योजना की धज्जियां उड़ गई हर रैली में उज्जवला योजना का बखान करने वाले मोदी की उज्जवाला योजना अब सवालों में आ गई है कि आखिर इन गरीबों का गैस सिलेंडर कहां है, क्या सरकार ने इन्हें दिया या फिर कुछ और ही है इस योजना की जमीनी हकीकत?

जरुर पढ़ें:  कांग्रेस पर फूटा अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर का गुस्सा, कहा- गोपनीय लेटर को क्यों किया लीक..

संबित पात्रा वीडियो शेयर करके लोगों को ये बताने की कोशिश कर रहे है कि इस गरीब महिला का घर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बना है लेकिन वो इस बात का ध्यान नहीं रखपाते कि जिनके यहां वो भोजन कर रहे हैं, उस वीडियो में ये साफ- साफ दिख रहा है कि खाना चूल्हे पर पका है न कि गैस सिलेंडर पर ।

संबित पात्रा ने वीडियो डाला और लिखा कि- ‘यह मेरा अपना परिवार है, मां ने खाना बनाकर खिलाया. मैंने अपने हाथों से इन्हें खाना खिलाया और मैं यह मानता हूं कि इनकी सेवा ही ईश्वर की सबसे बड़ी पूजा है.

जरुर पढ़ें:  'AAP' ने जताई नमो टीवी के प्रसारण पर आपत्ति , निर्वाचन आयोग से पूछे सवाल ?

इस वीडियो के सामने आने के बाद यह सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर उज्जवला योजना के तहत इन गरीबों को गैस सिलेंडर क्यों नहीं मिले और अगर मिले भी तो उसका इंप्लीमेंटेशन का क्या हुआ. ये वीडियो ओडिशा से आई है इसलिए सवाल उठाना और भी ज्यादा अहम हैं क्योंकि अभी पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस के राज्य मंत्री धर्मेंद्र प्रधान हैं और वो ओडिशा से ही राज्यसभा सांसद हैं. मोदी सरकार की जिन योजनाओं की सबसे ज्यादा चर्चा हुई है उसमें से उज्जवाला योजना एक है जिसके तहत मोदी सरकार का दावा है कि इस योजना से गरीब परिवारों की महिलाओं को काफी राहत मिली लेकिन आज उनही के नेता  ने इस योजना की पोल खोल डाली ।

 

 

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here