लोकसभा चुनाव के लिए नेताओं के चुनाव प्रचार सिलसिला जोर पकड़ रहा है. वहीं प्रचार की सरगर्मी के बीच एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता और बीजेपी सरकार की मुखर आलोचना करने वालीं प्रियंका चतुर्वेदी अपनी ही पार्टी से नाराज चल रही हैं. बुधवार को उन्होंने निराशा जाहिर करते हुए कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाया है कि पार्टी में खून-पसीना बहाने वालों से गुंडों को तवज्जो दी जा रही है. उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि जिन लोगों ने उन्हें धमकी दी उन्हें पार्टी ने यूं ही छोड़ दिया. आपको बता दें कि प्रियंका चतुर्वेदी ने एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए इस संदेश को लिखा है, इसके साथ एक चिट्ठी भी जुड़ी हुई है.


दरअसल प्रियंका चतुर्वेदी ने एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा है, प्रियंका ने लिखा कि जो लोग मेहनत कर अपनी जगह बना रहे हैं, उनके बदले ऐसे लोगों को तवज्जो मिल रही है. पार्टी के लिए मैंने गालियां और पत्थर खाए हैं, लेकिन उसके बावजूद पार्टी में रहने वाले नेताओं ने ही मुझे धमकियां दीं. उन्होने आगे लिखा कि मथुरा में राफेल मुद्दे को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस किया था, जहां उनके साथ पार्टी के ही कुछ सदस्यों ने दुर्व्यवहार किया. हालांकि, उनकी इस शिकायत के बाद उन सदस्यों को पार्टी से निकाल दिया गया था,

जरुर पढ़ें:  लोकसभा चुनाव का लाइव टेलिकास्ट देखेगा पाकिस्तान..

लेकिन अब एक बार फिर घटना पर खेद जताते हुए सभी कार्यकर्ताओं को उनके पदों पर बहाल कर दिया गया है. चिट्ठी के अनुसार, ज्योतिरादित्य सिंधिया की सिफारिश के बाद इन कार्यकर्ताओं को बहाल किया गया है. बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं और लोकसभा चुनाव के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी हैं.

ये मामला उस वक्त का है जब बीते साल सितंबर में राफेल विवाद को लेकर कांग्रेस केंद्र सरकार पर हमलावर थी और देशभर में पार्टी के नेता मोदी सरकार के खिलाफ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे. आपको बता दें कि बीते कुछ समय में प्रियंका चतुर्वेदी कांग्रेस के लिए टीवी प्रवक्ताओं में एक बड़ा चेहरा बनकर उभरी हैं. वह मूल रूप से उत्तर प्रदेश से हैं, हालांकि अब उनका परिवार मुंबई में रहता है और वहां की ही निवासी हैं.

जरुर पढ़ें:  चुनाव के दौरान अमिताभ का नोताओं पर तंज, बोले- 'सिर्फ 3 वोट मिले हैं और Z+ सुरक्षा चाहिए'..
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here