लोकसभा चुनाव का सफर आखिरी चरम पर है. नेताओं की तैयारियां भी जोरों पर हैं. तमाम राजनीतिक दल जनता को लुभाने और सियासत में अपना सिक्का जमाने के लिए नए नए पैतरे लगातार आजमा रहे हैं. कहीं कांग्रेस सरकार न्याय योजना के जरिए 72 हजार देने का वादा कर रही है तो कहीं मोदी सरकार गरीबों के लिए मकान और किसानों के लिए किसान सम्मान निधी योजना के तहत हर साल 6000 हजार रुपय देने का वादा कर रही है. लेकिन इसी बीच सत्ता में बैठी मोदी सरकार को लेकर एक ऐसी खबर आ रही है जो उनके तमाम वादों पर कई सवाल खड़े कर रही है.

जरुर पढ़ें:  MP के बाद छत्तीसगढ़ में टिकट बंटबारे को लेकर कांग्रेस कार्यताओं ने की तोड़फोड़!

दरअसल ये खबर है मोदी सरकार की किसान सम्मान निधी योजना को लेकर जिसके तहत केंद्र सरकार सरकार ने गरीब किसानों को हर साल 6000 रुपय देने का वादा किया था. आपको बता दें कि सरकार की ओर से दी जाने वाली ये राशी तीन किस्तों में दी जानी है. जिसकी एक किस्त यानी की 2000 रुपय किसानों को दिए जा चुके हैं. लेकिन सरकार की इस योजना को लेकर अब एक चौंकाने वाली खबर सामने आ रही है. जी हां अत्तर प्रदेश के कई शहरों में किसानों ने ये शिकायत की हैं कि मोदी सरकार की किसान सम्मान निधी योजना के तहत भेजी गई 2000 की राशी उनके अकाउंट से वापस ले ली गई है.

जरुर पढ़ें:  मामता दीदी के करीबी अफसर की मुश्किलें बढ़ी , सीबीआई ने जारी किया लुकआउट नोटिस

भारत के मशहूर समाचार पत्र जनसत्ता के हवाले से इस बात का खुलासा हुआ है. समाचार पत्र के अनुसार मुजफ्फरनगर और फिरोजबाद के कुछ किसानों ने इस बात का खुलासा किया है. किसानों का कहना है कि जब वो पीएम स्कीम के तहत मिली राशी बैंक से निकालने पहुंचे चो बैंक अधिकारियों ने उन्हे बताया कि उनके खातों में कोई राशी नही है. पैसे काट लिये गए है.

अब अगर किसनों की ये शिकायत और ये दावे सच है तो क्या किसानों के लिए पीएम की ये योजना महज एक दिखावा है. किसानों के खातों में 2000 रुपय भेजना क्या महज एक चुनावी स्टंट है. एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गरीब लोगों के विकास के लिए बड़े बड़े बादे कर रहे हैं . वहीं दूसरी तरफ चुनावी सफर के आखिरी मोड़ पर किसानों के मोदी सरकार को लेकर ये बड़े दावे मोदी सरकार के लिए एक बड़ी मुसीबत साबित हो सकते हैं.

जरुर पढ़ें:  कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी हुईं अपनी ही पार्टी से नाराज, बोलीं- पार्टी में गुंडों को तरजीह दी गई..
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here