लोकसभा चुनाव के इस मौसम में चुनावी दंगल चरम पर है. देश में 6 चरणों के लिए चुनाव हो चुके हैं. और 7वे चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर मतदान 19 मई को होने वाले हैं. वहीं 23 मई 2019 को चुनावी दंगल में अपनी किस्मत दाव पर लगाने वाले सियासित के खिलाड़ियों की जीत-हार का फैसला होगा. और पता चलेगा कि कि वो 543 लोग कौन हैं, जिन्हें जनता ने सत्ता पर राज करने के लिए चुना है.

अब चुनावी जंग के नतीजे तो 23 मई को सबके सामने आएंगे लेकिन लोकसभा चुनाव की इस जंग को लेकर बेताबी इतनी है कि जनता से लेकर राजनीतिक दलों के नेता तक जानना चाहते हैं कि आखिर सेहरा किसके माथे पर सजेगा? ऐसे में जनता को ये तो नहीं बताया जा सकता कि वास्तविक रिजल्ट क्या है लेकिन जनता की इस एक्साइटमेंट को कम करने के लिए एक दूसरा जरिया जरूर निकाला गया है. और वो है एग्जिट पोल का रास्ता.

जरुर पढ़ें:  पंजाब के मुख्यमंत्री का खास इंटरव्यूू, राष्ट्रवाद पर कही अपनी बात..

वैसे तो इस सियासी घमासान के बीच नेताओं की जीत हार को लेकर कई कायास लगाए जा रहे हैं. कहीं सर्वे के जरिए आंकड़े लगाए जा रहे हैं तो कहीं कोई पर्सनल ओपिनियन दे रहा है, लतो कहीं ओपिनियल पोल के जरिए नतीजों का अंदाजा लगाया जे रहा है. लेकिन इन सब में जो सबसे सटीक रास्ता है वो है एग्जिट पोल. जिससे पता चलता है कि किस पार्टी कि हवा चल रही है.

अब शायद आप लोगों में से कई लोगों को ये पता ही नहीं होगा कि ये एग्जिट पोल होता क्या है. तो चलिए आपको बताते है. लेकिन इससे पहले आप ये जान लीजिए कि ये आंकड़े निकलते कैसे हैं.

जरुर पढ़ें:  EXIT POLL ने बढ़ाया बीजेपी का जोश, मोदी का मास्क पहनकर तैयार की जा रही है मिठाई

जी हां एग्जिट पोल से पहले चुनावी सर्वे को समझना जरूरी है क्योंकि एग्जिट पोल को इसी प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ता है.. दरअसल चुनाव के दौरान निर्वाचकों, वोटर से बातचीत अलग-अलग राजनीतिक दलों, कैंडिडेट्स की जीत-हार के पूर्वानुमानों के आकलन की एक पूरी प्रक्रिया होती है, जिसे चुनावी सर्वे कहा जाता है. ये सर्वे अलग-अलग तरह के होते हैं और आधार भी अलग-अलग होता है. इसी में शामिल होते हैं एग्जिट और ओपिनियन पोल.

तो चलिए अब आपको बताते हैं कि क्या होता है एग्जिट पोल.

एग्जिट पोल हमेशा मतदान के आखिरी दिन ही होता है. जिस दिन वोटिंग होती है, उस दिन डाटा इकट्ठा किया जाता है. आखिरी फेस के वोटिंग के दिन जब मतदाता वोट डालकर निकल रहा होता है, तब उससे पूछा जाता है कि उसने किसे वोट दिया. इस आधार पर किए गए सर्वेक्षण से जो व्यापक नतीजे निकाले जाते हैं. इसे ही एग्जिट पोल कहते हैं. आमतौर पर टीवी चैनल वोटिंग के आखिरी दिन एग्जिट पोल ही दिखाते हैं.

जरुर पढ़ें:  नतीजों से पहले विपक्ष बना 'चौकीदार', दूरबीन से रखी जी रही है ईवीएम की निगरानी

 

 

 

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here