लेकसभा चुनाव के इस सफर में कई नए चहरे राजनीक दलों में एंट्री ले रहे हैं. इसी बीच लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश की हॉट सीट भोपाल से चुनाव लड़ने की अटकलों के बीच साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बीजेपी में शामिल हो गई हैं. बताया जा रहा है कि अब भोपाल सीट से उनका चुनाव लड़ना तकरीबन तय है.

बता दें कि अगर साधवी प्रज्ञा भोपाल से चुनाव लड़ेंगी तो इस सीट पर उनकी टक्कर कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह से होगी. बुधवार को साध्वी बीजेपी कार्यालय पहुंचीं और पार्टी के नेताओं के साथ भोपाल दफ्तर में बैठक की. भोपाल बीजेपी दफ्तर में साध्वी प्रज्ञा ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, रामलाल और प्रभात झा के साथ बैठक की. बताया जा रहा है कि बैठक में प्रदेश स्तर से लेकर केंद्र स्तर तक चर्चा हुई.

जरुर पढ़ें:  मतदान करने वाले भारत के पहले मतदाता से मिलिए, 102 साल की उम्र में किया मतदान..

लेकिन इस बीच साध्वी के बीजेपी में शामिल होने पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सवाल उठाए हैं. कमलनाथ से जब मीडिया ने साध्वी प्रज्ञा की बीजेपी में एंट्री पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि साध्वी का बीजेपी में शामिल होना पार्टी की मनोदशा को दिखाता है.


वहीं मीडिया से बातचीत के दौरान साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने चुनाव लड़ने और जीतने का दावा किया. साध्वी प्रज्ञा ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘मैंने औपचारिक रूप से बीजेपी की सदस्यता ले ली है. मैं चुनाव लड़ूंगी और जीतूंगी भी. मेरे पास शिवराज सिंह चौहान का समर्थन है.’ बता दें कि भोपाल सीट से दिग्विजय सिंह को टिकट मिलने के बाद से ही बीजेपी खेमे में चर्चा तेज हो गई थी. भोपाल सीट से बीजेपी की तरफ से शिवराज सिंह चौहान, उमा भारती और नरेंद्र सिंह तोमर तक का नाम सामने आ रहा था.

जरुर पढ़ें:  हेमा की जनसभा में भीड़ जुटाने के लिए डांस का किया गया आयोजन ।

कौन हैं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पहली बार तब चर्चा में आईं, जब 2008 के मालेगांव ब्लास्ट केस में उन्हें गिरफ्तार किया गया था. वह 9 सालों तक जेल में रही थीं. साध्वी प्रज्ञा 2007 के आरएसएस प्रचारक सुनील जोशी हत्याकांड में भी आरोपी थीं, लेकिन कोर्ट ने उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया. साध्वी प्रज्ञा का जन्म मध्य प्रदेश के भिंड जिले के कछवाहा गांव में हुआ था. हिस्ट्री में पोस्ट ग्रैजुएट प्रज्ञा का शुरुआत से ही दक्षिणपंथी संगठनों की तरफ रुझान था. वह आरएसएस की छात्र इकाई एबीवीपी की सक्रिय सदस्य भी रह चुकी हैं.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here