चुनावी सफर के आगे बढ़ने के साथ ही नेताओं के प्रति चुनाव आयोग का रुख भी सख्त होता नजर आ रहा है. इसी कड़ी में क्रिकेटर से राजनीति में आए और पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को बिहार में चुनाव प्रचार के दौरान विवादित बयान देना भारी पड़ गया. चुनाव आयोग ने उनके विवादित बयान को संज्ञान में लेते हुए सिद्धू के खिलाफ कटिहार के बारसोई थाना में आचार संहिता उल्लंघन का केस दर्ज कर दिया है.

सिद्धू ने बिहार के कटिहार में रैली के दौरान सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को हराने के लिए मुसिलिम समुदाय से बड़ी तादाद में निकलकर कांग्रेस के पक्ष में वोट करने की अपील की थी. सिद्धू ने मुसलमानों से कहा ”यहां माइनॉरटी मजॉरटी में है. अगर तुम लोग एकजुट होकर वोट डाला तो सब पलट जाएगा. मोदी सलट जाएगा. छक्का लग जाएगा ”. इस मामले में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के आपत्ति जताए जाने के साथ भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने पटना स्थित मुख्य निर्वाची पदाधिकारी पहुंचकर सिद्धू द्वारा की गई टिप्पणी को लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई किए जाने के लिए लिखित शिकायत की थी.

जरुर पढ़ें:  अरुण जेटली ने राहुल की शैक्षणिक योग्यता पर उठाए सवाल, पूछा- बिना MA के कैसे किया MPhil?

सिद्धू का ये बयान मंगलवार को कई टीवी चैनलों पर दिखाया गया. उधर, बीजेपी ने सिद्धू के इस बयान के बाद आक्रामक रुख अख्तियार करते हुए कांग्रेस के ऊपर विभाजन का आरोप लगाया और चुनाव आयोग से स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की मांग की.

सिद्धू के इस विवादित बयान को लेकर कटिहार जिला प्रशासन ने रिपोर्ट मांगी है. बता दें कि सिद्धू ने यह बयान उस वक्त दिया जब वह कटिहार में पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता तारिक अनवर के पक्ष में प्रचार करने के लिए गए थे. ऐसे में चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप और केस दर्ज होने के बाद कांग्रेस नेता और पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिद्धू की मुश्किलें बढ़ती हुई दिखाई दे रही है.

जरुर पढ़ें:  लंदन में दिखा नीरव मोदी, शुरू किया हीरे का नया कारोबार
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here