लोकसभा चुनाव में जीत के लिए नेता हदों को पार करने लगे हैं. इन बेशर्म, बड़बोले और ढीठ नेताओं पर आजम खान, योगी आदित्यनाथ, मायावती और मेनका गांधी पर चुनाव आयोग के बैन का भी असर होता नहीं दिख रहा है, लगता है इनको चुनाव आयोग नाम की संस्था का कोई खौफ नहीं बचा है और खुलेआम उसे चुनौती देने में जुट गए हैं
पश्चिम बंगाल में ममता बैनर्जी की तानाशाही तो दुनिया देख रही है, लेकिन अब उनकी पार्टी के नेता भी उन्हीं की राह पर चलते हुए दिख रहे हैं केंद्रीय संस्थाओं को चुनौती देने वाली ममता बनर्जी की एक विधायक ने इस चुनाव में देश के सुरक्षाबलों को चुनौती देना का एलान कर दिया है ।

जरुर पढ़ें:  पीएम मोदी ने नाम बदलकर रखा 'चौकीदार नरेंद्र मोदी', अमित शाह समेत कई मंत्रियों ने भी ट्विटर पर बदला नाम

वीडियो में अपने कार्यकर्ताओं को उकसा रही ये महिला तृनमूल कांग्रेस की विधायक रत्न घोष हैं भाषण देते देते वो ये भी भूल गई, कि वो कह क्या रही हैं? या फिर क्या पता वो ये जान बूझकर कह रही हो ।
रत्ना घोष कह रही है कि मतदान के दौरान सुरक्षाबलों से डरने की जरूरत नहीं है. अगर कुछ भी हो तो उन पर हमला कर दो यानी ममता दीदी की विधायक अपने कार्यकर्ताओं को बूथ लूटने की ट्रेनिंग दे रही हैं वो खुलेआम लोकतंत्र के पहरेदारों को मारने की धमकी दे रहीहै जिनके कंधे पर निष्पक्ष चुनाव कराने की जिम्मेदारी है विधायक ने ये भी कहा कि अगर आप जंग जीतना चाहते हैं तो ये न सोचे कि क्या सही क्या गलत. लोकतांत्रिक या अलोकतांत्रिक तरीके से हमें जीतना ही होगा ।

जरुर पढ़ें:  कुमारस्वामी के मंत्री के घर आयकर विभाग ने मारा छापा !

मतलब विधायक जी ममता दीदी को जिताने के लिए कुछ भी करने को तैयार वो देश के कानून के खिलाफ जाकर भी पार्टी को चुनाव जीताना चाहती हैं इसे वीडियो से पता चलता है कि रत् के इरादे बेहद ही खतरनाक और खौफनाक है अब इसकी सीख उन्हें अपने आलाकमान दीदी से मिली है या फिर वो खुद से ये ज्ञान दे रही है इस बात का पता तब चल पाएगा जब ममता दीदी का इसपर कोई रिएक्शन आएगा. लेकिन इसकी उम्मीद कम ही है क्योंकि ममता का काम करने का तरीका भी यही रहा है ।

देश के लोकतंत्र को खुलेआम चुनौती देने वाली है और कानू हाथ में लेने के लिए लोगों को उकसाने वाली ममता की विधायक के साथ क्या सलूक होना चाहिए. घोष का पार्टी के कार्यकर्ताओं को सुरक्षाबलों के खिलाफ उकसाना किस हद तक सही है किया खून खराबे के नाम पर हमारे नेता वोट मांग रहे है लोकतंत्र में सत्ता में बेढ़े ऐसे नेताओं पर आप कि किया राय है हमे कमेंट बॉक्स में जरुर बताए ।

जरुर पढ़ें:  पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान #MeToo के लपेटे में!
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here