बर्थडे स्पेशल: जाने क्या है आमिर खान का बर्थडे प्लान..

बॉलीवुड के सुपरस्टार और मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान आज अपना 54वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर फैंस अपने चहेते सितारे को जन्मदिन की ढेरों बधाईयां दे रहे हैं. फिल्म इंडस्ट्री में 30 साल से भी ज्यादा का सक्सेफुल करियर बीताने वाले आमिर खान ने अपने फिल्मी सफर में कई यदगार परफॉर्मेंस दी हैं. एक्टर के फैंस जानना चाहते हैं कि वे कैसे अपना जन्मदिन सेलिब्रेट करेंगे.
बताया जा रहा है कि आमिर खान अपने बांद्रा स्थित घर में मीडिया के साथ बर्थडे सेलिब्रेट करेंगे. हर साल की तरह एक्टर मीडिया के साथ अपना 54वां बर्थडे केक काटेंगे. इसके बाद वे नॉर्थ आयरलैंड के लिए निकलेंगे. जहां बेलफेस्ट फिल्म फेस्टिवल हो रहा है. इसके अलावा वे 16 मार्च को नासरीन मुन्नी कबीर से अपने काम और आने वाले प्रोजेक्ट्स के बारे में बात करेंगे.

आज उनके जन्मदिन के मौके पर हम आपको उनकी 10 ऐसी फिल्मों के बारे में बता रहे हैं जो न सिर्फ लीक से हटकर थी, बल्कि उन फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर भी कमाल दिखाया. अपनी इन फिल्मों के साथ आमिर खान ने ये साबित कर दिया कि फिल्मों में मजेदार अंदाज में भी खास संदेश दिया जा सकता है.

‘कयामत से कयमात तक’ – 1988

आमिर खान की पहली फिल्म ‘कयामत से कयमात तक’ से ही आमिर खान ने ये साबित कर दिया था कि वो इस इंडस्ट्री में लंबे समय तक ठहरने वाले हैं. हालांकि उनकी डेब्यू फिल्म 1984 में आई ‘होली’ थी. लेकिन बतौर एक्टर पहचान उन्हें 1988 में आई फिल्म ‘कयामत से कयमात तक’ से मिली. फिल्म की कहानी दो ऐसे जवां दिलों की थी जो एक दूसरे से प्यार करते हैं और अगर समाज या परिवार इनके बीच में आएगा तो वो इन बंधनों को तोड़कर भाग खड़े होंगे. दो बागी प्रेमियों की इस कहानी ने एक तरफ ये मैसेज दिया कि प्यार में कोई बंधन नहीं होता. तो साथ ही ये भी संदेश दिया कि आज का युवा समाज के खोखले बंधनों को तोड़कर उड़ना जानता है. अपनी पहली ही फिल्म को नेशनल अवॉर्ड्स में सप्शेल मेंशन मिला था.

‘लगान’ – 2001

साल 2001 में रिलीज हुई आमिर खान की फिल्म ‘लगान’ ने देश ही नहीं विदेशों में भी दर्शकों का खूब मनोरंजन किया. आपको शायद जानकर हैरानी हो कि फिल्म ‘लगान’ आमिर से पहले शाहरुख खान को ऑफर की गई थी लेकिन उन्होंने इसे करने से इंकार कर दिया. इस फिल्म के लिए आमिर खान खुद प्रोड्यूसर बने और फिल्म को पूरा किया. फिल्म की कहानी अंग्रेजी शासनकाल पर फिल्माई गई है. जिसमें गुजरात के गांव की है जो सूखे की भयंकर मार झेल रहा है. सूखे की इस मार के बीच अंग्रेज लगातार गांव के किसानों पर लगान बढ़ाए जा रहे हैं. ऐसे में भुवन (आमिर खान) अंग्रेजों को उन्हीं के खेल क्रिकेट में हराने की चुनौति दे देता है और गांव वालों का लगान माफ करने की शर्त रखता है. फिल्म में दिखाया गया है कि यदि कोई चीज मन से ठान ली जाए तो उसे पूरा किया जा सकता है. आमिर खान की इस फिल्म ने सफलता के नए आयाम खड़े किए. 1957 में आई ‘मदर इंडिया’ और 1988 में आई ‘सलाम बॉम्बे!’ के बाद आस्कर में नॉमिनेट होने वाली तीसरी फिल्म बनी थी.

जरुर पढ़ें:  रजनीकांत की बेटी सौंदर्या, तलाक के बाद रचाने जा रहीं इस एक्टर से शादी!

‘रंग दे बसंती’ – 2006

आमिर खान की फिल्म ‘रंग दे बसंती’ उस दौर में रिलीज हुई जब देश में करप्शन अपनी चरम पर था. फिल्म में आज के युवा को जगाने के लिए भगत सिंह और राजगुरू का सहारा लिया गया. फिल्म में एक साथ दो कहानियां चल रही थी जिसमें दोनों ही की मंजिल आजादी थी. भगत सिंह की कहानी में अंग्रेजों के गुलाम थे तो वहीं दलजीत यानी DJ (आमिर खान) की कहानी करप्शन ने देश को गुलाम बनाया हुआ था. फिल्म ने युवाओं में एक अलग ही जोश पैदा किया और ये संदेश दिया कि ये देश हमारा है और इसे बेहतर बनाने का काम हमें अपने हाथों में लेना होगा. फिल्म ने 4 कैटेगरी में नेशनल अवॉर्ड्स जीते.

‘3 इडियट्स’ – 2009

साल 2009 में आमिर खान की फिल्म ‘3 इडियट्स’ ने तो मानों युवा दिलों को अपना दीवाना ही बना दिया. आज भी ये फिल्म स्टूडेंट्स की पसंदीदा फिल्मों में से एक है. फिल्म में कॉलेज स्टूडेंट्स की ऐसी कहानी को दिखाया गया है जिसमें वो करना तो कुछ और चाहते हैं लेकिन कर कुछ और रहे होते हैं. फिल्म में पढ़ाई के प्रेशर से लेकर सफल करियर तक हर एक पहलु को छुआ है. फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर धमाकेदार कमाई की और कई अवॉर्ड्स अपने नाम किए. फिल्म ने तीन नेशनल अवॉर्ड्स जीते जिनमें बेस्ट पॉप्यूलर फिल्म का अवॉर्ड भी शामिल है.

जरुर पढ़ें:  तैमूर अली खान का साउथ अफ्रीका में दिखा क्यूट अंदाज, सैफ-करीना संग की घुड़सवारी देखिए Viral Photo

‘तारे जमीन पर’ – 2007

साल 2007 में आमिर खान एक और फिल्म लेकर आए ‘तारे जमीन पर’. आमिर खान ने खुद ही इस फिल्म निर्माण भी किया और निर्देशन भी. आमिर इस फिल्म में एक्टिंग भी करते नजर आए. फिल्म की कहानी एक ऐसे बच्चे इशान की थी जो ‘डिसलेक्सिक’ ( dyslexic) डिसऑडर का शिकार है. इसी डिसऑडर के कारण वो अपनी ही एक अलग दुनिया में रहता है और पढ़ाई में बहुत ज्यादा अच्छा नहीं कर पाता. वहीं, इशान के माता-पिता उसके इस डिसऑडर से अंजान हैं वो लगातार उसे डांटते हैं और बाद में उसे खुद से दूर बोर्डिंग स्कूल भेज देते हैं. जहां इशान की मुलाकात टीचर निकुंभ सर (आमिर खान) से होती है और उसकी इस बीमारी को पहचान कर इशान के माता-पिता को बताता है. इस फिल्म दर्शकों के दिलों को छू लिया था. फिल्म ने कमाई के साथ-साथ नेशनल अवॉर्ड भी अपने नाम किया.

‘3 इडियट्स’ – 2009

साल 2009 में आमिर खान की फिल्म ‘3 इडियट्स’ ने तो मानों युवा दिलों को अपना दीवाना ही बना दिया. आज भी ये फिल्म स्टूडेंट्स की पसंदीदा फिल्मों में से एक है. फिल्म में कॉलेज स्टूडेंट्स की ऐसी कहानी को दिखाया गया है जिसमें वो करना तो कुछ और चाहते हैं लेकिन कर कुछ और रहे होते हैं. फिल्म में पढ़ाई के प्रेशर से लेकर सफल करियर तक हर एक पहलु को छुआ है. फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर धमाकेदार कमाई की और कई अवॉर्ड्स अपने नाम किए. फिल्म ने तीन नेशनल अवॉर्ड्स जीते जिनमें बेस्ट पॉप्यूलर फिल्म का अवॉर्ड भी शामिल है.

‘तलाश’ – 2012

आमिर खान की फिल्म ‘तलाश’ ने समाज के ऐसे तबके के विषय को उठाया जिसके बारे में कोई बात नहीं करना चाहता. फिल्म में आमिर खान सेक्स वर्कर्स की पहचान और उनकी सुरक्षा के मसले को उठाया था. फिल्म में करीना कपूर , रानी मुखर्जी और आमिर खान मुख्य रोल में थे. फिल्म में करीना कपूर एक सेक्स वर्कर के किरदार में हैं और उनका मर्डर हो जाता है. लेकिन उनके गायब होने की न तो किसी को खबर होती है और न ही कोई इसके लिए चिंतित होता है. फिल्म में इस मसले को उठाया गया है कि सेक्स वर्कर्स को भी उनकी पहचान मिलनी चाहिए. फिल्म को दर्शकों ने काफी पसंद किया था.

जरुर पढ़ें:  ईशा अंबानी और आनंद पीरामल की शादी में सितारों उतरा हुजूम, जानें क्या-क्या हुआ खास

‘PK’ – 2014

आमिर खान की फिल्म पीके एक ऐसी फिल्म है जिसे दर्शकों को एक खास मैसेज दिया गया. फिल्म में धर्म के नाम पर हो रही हिंसा के मसले को लेकर एक खास संदेश दिया. फिल्म में इस मसले को दिखाया गया कि भगवान के नाम में लोग आम आदमी की भावनाओं से खेलते हैं. असल में धर्म के ठेकेदार आम आदमी को इस हिंसा के लिए उकसाते हैं और उनका ईशवर और आस्था से कोई खास लेना देना होता नहीं है. इस फिल्म को लेकर काफी विवाद भी हुआ था. हालांकि इस सब के बाद भी फिल्म को काफी पसंद किया गया और बॉक्स ऑफिस पर भी कमाल किया था.

‘दंगल’ – 2016

आमिर खान की फिल्म ‘दंगल’ हरियाणा के ऐसे परिवार की कहानी है जिसमें लड़कियों को लड़कों के बराबर मौका दिया गया. ये फिल्म में हरियाणा की महावीर फोगाट की असल कहानी को दिखाया गया है जिसमें उन्होंने हरियाणा जैसे राज्य में अपनी बेटियों को कुश्ति लड़ना सिखाया. इस दौरान उन्हें किस प्रकार से अपने ही गांव में विरोध का सामना करना पड़ा था. लेकिन पिता की मेहनत को बेटियों ने बेकार नहीं जाने दिया. फिल्म की कहानी ने दर्शकों के दिल को छुआ और बॉक्स ऑफिस पर भी इसका कमाल दिखा.

सीक्रेट सुपरस्टार – 2017

आमिर खान की ‘सीक्रेट सुपरस्टार’ ने देश ही नहीं विदेशों में भी कमाई के नए आयाम साबित किए. फिल्म की कहानी एक ऐसी बच्ची की है जो कुछ करना चाहती है लेकिन उसके पिता संकुचित सोच के कारण उसे आगे नहीं बढ़ने देना चाहते . ऐसे में उसकी मां उसकी ढाल बनकर सामने आती है और उसे अपने सपनों की उड़ान भरने के लिए कहती है.

ठग्स ऑफ हिन्दुस्तान- 2018

ठग्स की असफलता के बाद आमिर खान ने फैंस को निराश करने के लिए माफी भी मांगी थी. ठग्स के बाद उनकी शॉर्ट मूवी रूबरू रोशनी रिलीज हुई थी. सामाजिक मुद्दे पर बनी इस मूवी को लोगों ने काफी पसंद किया. इसका निर्माण किरण राव और आमिर खान के प्रोडक्शन ने किया और निर्देशन स्वाति चक्रवर्ती ने.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here