पुराने समय में हम लोग अपनी सेहत का बहुत ज्यादा ध्यान रखते थे, अच्छी सेहत पाने के लिए लोग फल-फूल, अंडा-मांस और सब्जियों का सेवन करते थे| अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए डेली व्यायाम करते थे| आज इस भाग दौड़ भरी लाइफ में हमें अपनी सेहत के बारे में सोचने का मौका ही नहीं मिलता|

आज का यूथ सिर्फ हमें फ़ास्ट फ़ूड कोर्नर्स पर या किसी फ़ास्ट फ़ूड कम्पनी के रेस्टोरेंट में बैठा हुआ दिखाई देता है, उसे पता है कि फ़ास्ट फ़ूड सेहत के लिए हानिकारक है, फिर भी वह उसी जंक फ़ूड का सेवन करता है, जिससे हमें डायबिटीज, लो और हाई ब्लड प्रेशर, सर में दर्द, शरीर में मोटापा जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है|

जरुर पढ़ें:  अब गर्लफ्रेंड को मूवी दिखाना हुआ आसान, जानिए क्यों?

न्यू यॉर्क में जी एक स्टडी के मुताबिक यह साबित हुआ है कि, 30 साल से कम उम्र के व्यक्तियों के दिमाग पर  फ़ास्ट फ़ूड का प्रभाव तीन गुना ज्यादा पड़ता है| जिसके कारण उनमे कई दिमागी प्रॉब्लम हो सकती हैं, इसकी वजह से सर दर्द, डिप्रेसन| फ़ास्ट फ़ूड में अधिक मात्रा में Trans और OMEGA-6 जैसे एसिड्स होते हैं, जो हमारे शरीर का मोटापा बढ़ाते हैं| जबकि मीट में Tryptophan नाम का एक तत्व होता है जो हमारे दिमाग को स्वस्थ रखने में अहम् भूमिका अदा  करता है|

स्टडी में यह साबित हुआ है कि 30 साल से अधिक उम्र के व्यक्तियों को फलों का सेवन करना चाहिए, फलों में मौजूद  carbohydrate और antioxidants काफी मात्रा में होता है,इनकी वजह से ही हमारे दिमाग की सोचने और समझने की क्षमता में इजाफा होता है|

जरुर पढ़ें:  दिल्ली की जहरीली हवा से, ये चीजें रखेंगी आपको हैल्थी-ज़रुर पढें

अच्छी सेहत के लिए हमेशा खाने में दाल,हरी सब्जियां,फल , फूल, मावा, मीट, अंडा और दानेदार पदार्थों का सेवन करना चाहिए| इनमें carbohydrate और antioxidants  प्रचुर मात्रा में होते हैं| अंडे में जिंक होता है, हमारे मानसिक क्षमता के साथ साथ हमारी बॉडी को भी फिट रखता है| हरी पत्तेदार  में विटामिन B,C,E और मैग्नीशियम  होता है| ये सारे पदार्थ हमारे  दिमाग की सोचने और समझने की क्षमता में विकास करते हैं| जो हमें आगे QUIZ और परीक्षा संबधी कठिनाइयों को सुलझाने में मदद करते हैं|