एक तरफ जहां भारतीय वायूसेना के विंग कमांडर की भारत वापसी के बाद भारत में खुशियों का माहोल था. हर कोई अभिनंदन और पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांध रहा था. इसी बीच अमेरिका ने भारत को एक ऐसा झटका दिया जिससे भारत की खुशियों पर विराम लग गया.

जी हां, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है. दरअसल राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के साथ जीएसपी (जेनरलाइज्ड सिस्टम प्रेफरेंस) समाप्त करने का फैसला किया है. और इस बात की जानकारी ट्रंप ने अपनी संसद को दी है. जिसकी जानकारी यूएस ट्रेड रिप्रेजेंटटेटिव रॉबर्ट लाइट्जर ने दी है.

जरुर पढ़ें:  मामता दीदी के करीबी अफसर की मुश्किलें बढ़ी , सीबीआई ने जारी किया लुकआउट नोटिस

भारत के लेकर अमेरिका का ये बड़ा फैसला जिस मुद्दे को लेकर किया गया है, वो जीएसपी आखिर है क्या ये भी जान लीजिए.

जेनरलाइज्ड सिस्टम प्रेफरेंस यानी जीएसपी अमेरिकी ट्रेडप्रोग्राम है जिसके तहत अमेरिका विकासशील देशों में आर्थिक तरक्की के लिए अपने यहां बिना टैक्स सामानों का आयात करता है. बता दें कि अमेरिका ने दुनिया के 129 देशों को यह सुविधा दी है. जहां से 4800 प्रोडक्ट का आयात होता है. अमेरिका ने ट्रेड एक्ट के तहत 1 जनवरी 1976 के जीएसपी का गठन किया था.

अब यहां एक सवाल ये भी है कि आखिर अमेरिका के इस फैसले के पीछे आखिर क्या बजह हो सकती. तो चलिए आपको ये भी बताते हैं.

जरुर पढ़ें:  पहले ही भाषण में अटकी उर्मिला, ट्रोलर्स ने कहा- पहले हिंदी बोलना सीखो..

दरअसल अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने फैसले से पहले कहा कि भारत ने हमें इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं किया है कि वो अपने बाजार में हमारे प्रोडक्ट की कितनी पहुंच और आसान करने वाला है.

ट्रंप ने इस फैसले पर सख्ती दिखाते हुए इस फैसले पर दस्तख्त कर दिए हैं. साथ ही 60 दिन का नोटिफिकेशन भी भेज दिया गया है. दरअसल जीएसपी समाप्त करने की यही प्रक्रिया है. हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति अगर चाहें तो वो ये फैसला वापस भी ले सकते हैं लेकिन उससे पहले भारत को अमेरिकी चिंताओं को दूर करना होगा.

डोनाल्ड ट्रंप का ये फैसला ऐसे वक्त आया है जब भारत में आम चुनाव होने वाले हैं. इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुश्किलें भी बढ़ सकती हैं. देखने वाली बात तो अब ये है कि ट्रंप का ये फैसला क्या रंग लाता है. और चुनाव पर इसका क्या असर पड़ सकता है.

जरुर पढ़ें:  क्या पीएम मोदी ने बढ़ाई अमिताभ की मुश्किलें?

 

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here