जम्मू के कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ हुए गैंग रेप ने एक बार फिर लोगों को सड़कों पर आने के लिए मजबूर कर दिया है। जिसके इंसाफ के लिए लोग जगह-जगह मार्च निकाल रहे है। लेकिन आसिफा की हुई हत्या और गैंगरेप के बाद उसके परिवार का क्या हाल है, इसका ख्याल शायद ही किसी को आया हो, जो रातों को बिना खाएं और खौफ से जंगल-जंगल भटक रहे है।

Asifa 8 Years old Girl Was Gangraped

जी हां, आसिफा अपने परिवार में सबसे छोटी थी। दो भाइयों की अकेली बहन थी। एक भाई 11वीं में पढ़ता है, तो दूसरा छठी कक्षा में. आसिफा इनकी गोद ली हुई बेटी थी। आसिफा के मौजूदा मां-बाप के दो बच्चे एक हादसे में गुजर गए थे। इस सदमे से टूटे आसिफा के अब्बू ने अपनी बहन से ये बच्ची गोद ली थी। लेकिन हैवानियत से भरे इंसानों ने उसे भी नहीं बख्शा। आजतक की खबर के मुताबिक आसिफा के पिता मोहम्मद अख्तर का कहना है कि..

‘बेटी की हत्या के बाद से हमारा पूरा परिवार डर और खौफ के कारण जंगल में रह रहा है। हम बहुत परेशान हैं। रात में रोटी नहीं खा पाते है, कल ही किसी ने मुझे आसिफा की फोटो दिखाई तो निवाला मुंह के नीचे नहीं उतरा। अकेले कही जा नहीं सकते है, हम में डर भरा हुआ है’

Asifa Parents

आसिफा के पिता ने सीबीआई जांच पर कहा, कि..

“जो जांच क्राइम ब्रांच ने करके आरोपियों को पकड़ा है उसी से हमें इंसाफ मिले, हम चाहते है जैसी हैवानियत हमारी बेटी के साथ हुई वैसा ही उन हत्यारों के साथ भी होना चाहिए”

Rape Victim Asifa

आपको बता दे, कि आसिफा मुसलिम धर्म से थी, जो 10 जनवरी को गुम हो गई थी और 17 जनवरी को उसकी लाश मिली थी। मंदिर के अंदर आसिफा को ड्रग्स देकर उसके साथ 6 लोगों ने गैंग रेप किया गया था। जिसके बाद आरोपी उसकी हत्या करने उसे जंगल ले गए और वहा जाकर उन्होंने उसका सर पत्थर से कुचल डाला। जिसके बाद पुलिस को आसिफा की लाश बरामद हुई थी। वही अब आसिफा के साथ हुए गैंग रेप ने राजनीतिक रंग ले लिया है। रेप के आरोपियों के समर्थन में कुछ हिन्दूवादी संगठनों ने रैलियां भी निकाली है।

जरुर पढ़ें:  विदेशी पुलिस वालों ने 'मुन्नी बदनाम हुई' गाने पर जमकर लगाए ठुमके-वीडियो वायरल