किसी कि भी जिंदगी का अहम हिस्सा है खेती, जो पेट भरने के लिए अनाज देती है. आज हम आपके लिए खेती से जुड़ी ही एक खास खबर लेकर आए हैं जिसे सुनकर आप हैरान हो जाएंगे. आप में से बहुत से लोग होंगे जो खेती करते हों या फिर खेती के बारे में पढ़ा या सुना हो. तो आप जानते ही होंगे कि खेती के लिए कई अहम चीजों की जरूरत होती है. जिनमें से एक है पानी , जी हां पानी के बिना तो खेती हो ही नहीं सकती लेकिन अगर हम आपसे कहें कि पानी के इस्तेमाल के बिना भी खेती हो सकती है तो क्या आप भरोसा करेंगे शायद नहीं. लेकिन ये सच है.

जरुर पढ़ें:  लड़की के साथ भागी लड़की, डायरी से हुआ रिश्ते का खुलासा..

धान के खेत तो आप सभी ने देखे होंगे. लेकिन बिना पानी के हुई धान की खेती शायद ही किसी ने देखी हो. जी हां प्रदेश के इतिहास में यह पहला ऐसा मौका होगा, जब धान की 30 प्रजातियों में से तीन प्रजातियों में अनुसंधान के बाद सभी कृषि विज्ञान केंद्रों में एक साथ इसकी खेती की जाएगी. ऐसा इसलिए क्योंकि यह 3 प्रजातियां 600 मिली मीटर बारिश में भी तैयार होने में सक्षम पाई गई है. इसका मतलब यह है कि सूखे की स्थिति में भी अब धान की खेती संभव है.

अब मा 600 मिलीमीटर जैसी अल्प बारिश में भी धान की खेती संभव होने जा रही है. टीसीबी कॉलेज ऑफ एग्री एंड रिसर्च स्टेशन बिलासपुर में धान की 30 प्रजातियों पर हुए अनुसंधान के बाद इनमें से तीन ऐसी प्रजातियां मिली है, जिनमें जबरदस्त सूखा प्रतिरोधक क्षमता के होने का खुलासा हुआ है.

जरुर पढ़ें:  सावधान- इसलिए बर्बाद हो रही है दिल्ली वालों की सेक्स लाइफ

फिलहाल रिसर्च सेंटर के फार्म हाउस में इसकी खेती की जा रही है. अनुसंधान के बाद प्रदेश के सभी 24 कृषि विज्ञान केंद्रों को आदेश जारी किए गए हैं कि वे अपने प्रक्षेत्र के कम से कम 1 या 2 एकड़ क्षेत्रफल इसके लिए सुरक्षित रखें ताकि इनके बीज किसानों तक जल्द से जल्द पहुंचे.

रायपुर और बिलासपुर में चले रहे अनुसंधान में 30 में से 3 प्रजातियों को विशेष ध्यान में रखते हुए काम किया जा रहा है क्योंकि ये 3 प्रजातियां मात्र 600 मिलीमीटर बारिश में भी बेहतर परिणाम दे सकती हैं. जबकि सामान्य धाम की दूसरी प्रजातियों को कम से कम 1000 से 1008 मिलीमीटर बारिश की आवश्यकता होती है.

जरुर पढ़ें:  पाक के बाद अब चीन को झटका, अमेरिका की 200 कंपनियां आएंगी भारत..

टीसीबी कॉलेज ऑफ एग्री एंड रिसर्च स्टेशन बिलासपुर और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के फार्म हाउस में चल रहे अनुसंधान में धान की प्रजातियों को सूखे के दिनों में होने वाली बारिश की मात्रा जितना ही पानी दिया जा रहा है. रोजाना की स्थितियों पर सतत नजर रख रहे वैज्ञानिकों का मानना है कि ऐसी स्थितियों में भी अच्छी ग्रोथ ले रहे हैं. अक्टूबर माह के अंत तक अंतिम परिणाम आ सकता है.

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here