कहते हैं, एक औरत घर बना भी सकती है और बिगाड़ भी सकती हैं। महिलाओं का तेज उनके जेवर से कही ज्यादा होता है। वो एक बार जो करने की ठान लें, तो वो उसे पूरी लगन से करती हैं। फिर चाहे वो किसी कबाड़ चीज़ को ही नूर क्यों ना बना दें। जी हां, जहां इस कड़ाके की ठंड में लोग अपने घरों में रजाई के अंदर दुबके रहते हैं। वहीं, कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिनके पास ठंड से बचने के लिए ना तो, रजाई है और ना ही घर। उन्हीं बेघरों को आशियाना देने के लिए दो महिलाओं ने ऐसा कमाल किया है, जिससे देखकर आप भी दंग रह जाएंगे और महिलाओं की तारीफ किए बिना नहीं रह पाएंगे।

जरुर पढ़ें:  आईफोन-8 के लिए 17 साल की लड़की ने पार की हद, मिला सबक
UK Women Convert Bus into Shelter

बेघर लोग जो, सड़क, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और पुल के नीचे अपना आशियाना बनाते हैं, उनके लिए आलिशान घर बनाने का फैसले दो महिलाओं ने अपनी सूझ-बूझ के साथ किया। उन्होंने बेघरों के लिए ऐसा घर बना दिया, जिसकी क्वालिटी और फैसिलिटी किसी बड़े बंगले से कम नहीं है। महिलाओं ने कड़ाके की ठंड से बेघर लोगों का बचाने के लिए उनके लिए कबाड़ में पड़ी डबल डेकर बस को एक घर में बदल दिया है।

UK Women Convert Bus into Shelter

बता दें,कि सैमी और जोएन द कर सैक प्रोजेक्ट नाम की एक चैरिटी संस्था की संचालक हैं। इनका काम गरीबों की मदद करना है। ये दोनों यूके की रहने वाली हैं। इन्होंने बस को कबाड़ में जाने से पहले ही अपना लिया और उसकों घर का आकार दे दिया। बस के अंदर वो सारी चीजें है, जो एक घर मे होती हैं। इस बस के अंदर की फोटो देख आप यकीन नहीं कर पाएंगे कि, ये खराब और बेकार बस के अंदर का घर है।

जरुर पढ़ें:  RSS नेता की केरल के CM को धमकी पर मचा बवाल
UK Women Convert Bus into Shelter

12 बेड की बस को बनाने में लगा 8 महीने का वक्त

इस बस को घर बनाने में जैमी और जोएन का काफी वक्त लगा, जहां उन्होंने इस बनाने में कुछ वॉलंटियर्स की भी मदद ली। जिसके बाद इस बस को 12 बेड में तैयार किया गया। इतना ही नहीं, इस बस को घर बनाने में करीब 8 महीने का वक्त लगा था। जिसमें लगभग 8 हजार डॉलर्स का खर्चा आया। वही, 80 कारीगरों ने मिलकर इस बस को आलिशान घर बनाने में मदद की। जिसमे एक फुल फंक्शन किचन भी तैयार किया गया।

UK Women Convert Bus into Shelter

ये स्टेजकोच बस यूके के सैंट अगाथा चर्च के सामने पार्किंग में खड़ी की गई है। जहां बेघर लोग बसेरा करके खुद को ठंड से बचा सकेंगे। ये काम वाकई तारीफ-ए-काबिल है। इस तरह की बेकार चीज़ से किसी इंसान के लिए रहने का आशियाना बना दिया जाए, अगर इसी तरह के नुस्खे और स्मार्ट तरीके इंडिया में अपनाएं जाएं, तो गरीब और बेसहारा लोगों को अपना आशियाना मिल सकेेगा।

Loading...