गणतंत्र दिवस के मौके पर लद्दाख में 18 हजार फीट की ऊंचाई पर ITBP के जवानों ने माइनस 30 डिग्री तापमान में तिरंगा झंडा फहराया. ITBP ने ट्विटर पर जवानों के झंडा फरहाने और 18 हजार फीट की ऊंचाई पर भारत माता की जय के नारे लगाते हुए गश्त का वीडिया ट्वीट किया है. बता दें कि यह इलाका भारत-चीन सीमा से सटा हुआ है और किसी भी समय चीन की तरफ से घुसपैठ की आशंका बनी रहती है. ऐसे में भी भारतीय जवान माइनस 30 डिग्री तापमान में भी सीमा पर डटे रहते हैं. डोकलाम विवाद के बाद से इस इलाके में जवानों ने चौकसी बढ़ा दी है.

आईटीबीपी द्वारा शेयर किए गए वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे हिमालय की बर्फ से ढकी हुई वादियों के बीच आईटीबीपी के जवान तिरंगे झंडे को लेकर आगे बढ़ते दिख रहे हैं. हड्डियां गला देने वाली ठंड के बावजूद आईटीबीपी के हिमवीरों ने हाथ में बंदूक और तिरंगा लेकर मार्च किया. लद्दाख में ये वो जगह है जहां तापमान माइनस 40 डिग्री तक चला जाता है और ऊंचाई करीब 9 हजार फीट से लेकर 20 हजार फीट तक होती है.

आईटीबीपी द्वारा वीडियो शेयर करने के बाद सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें लोग जवानों की वीरता और उनके हौसले को सलाम कर रहे हैं. लोगों ने उन्हें सैल्यूट करने के साथ गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं भी दीं हैं. लद्दाख में इस वक्त का मौसम बेहद सर्द है. यहां ज्यादातर इलाकों में सड़कें नहीं हैं, लगातार बर्फबारी के कारण जो हैं भी वो भी बर्फ से भर जाती हैं. ऐसे में इन जवानों का सीमा पर डटे रहना ही बड़ी चुनौती है. परेशानी ऐसी कि कई बार जवान 5-6 दिन में एक बार अपने बेस कैंप पर आ पाते हैं.

तब तक इन्हें बर्फ में इगलो बनाकर रहना होता है. इसमें ये जवान बर्फीले तूफान से अपनी जान बचाते हैं. गणतंत्र दिवस से पहले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर भी आईटीबीपी के जवानों ने यहां बर्फ से ढके पहाड़ पर योग किया था. लद्दाख में 18,000 फीट की ऊंचाई पर इन जवानों ने योग किया था. घाटी में लगातार हो रही बर्फबारी में जहां जवान सीमा पर डटे हुए हैं वहीं, कई ऐसे भी इलाके हैं जहां जीवन ठहर सा गया है. इसके अलावा ITBP के जवानों ने उत्तराखंड के चमोली जिले में 9 हजार फीट की ऊंचाई पर तिरंगा झंडा फहराया.

जरुर पढ़ें:  अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय एक बार फिर विवादों में
Loading...