चुनावी सफर के दौरान शुरु हुई बीजेपी और टीएमसी की सियासी जंग का दौर अब भी बरकरार है. और बीजेपी और टीएमसी के बीच तल्खी लगातार बढ़ती जा रही है. वहीं अब बंगाल में फैले इस सियासी बवाल का सियासी रंग और भी गहरा होता जा रहा हैं. जी हां धर्म के नाम पर छिड़ी इस राजनीतिक जंग में अब एक नया मोड़ आ गया है. तो चलिए आपको बताते हैं कि मामला आखिर है क्या.

दरअसल बंगाल के हावड़ा में एक नई घटना सामने आई है. जहां बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष ओम प्रकाश और सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने सड़क पर हनुमान चालीसा का पाठ किया. बीजेपी के इस हनुमान चालीसा पाठ के कारण कई घंटों तक रास्ता भी बंद रहा. आपको बता दें कि बीजेपी के इस प्रदर्शन का कारण वो तमाम मुस्लिम लोग हैं जो सड़क पर बैठ कर नमाज अदा करते हैं जिससे सड़क जाम हो जाती है और लोगों को आने जाने मे परेशनी होती है.

इस मामले पर जब बीजेपी कार्यकर्ताओं से बात की गई तो उनका कहना है कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार के राज में किसी भी प्रमुख सड़क को रोकर शुक्रवार की नमाज अदा की जाती है, जिससे लोगों को खासी परेशानी होती है. साथ ही उनका कहना है कि जब एक घर्म के लोग शुक्रवार के दिन रास्ते पर बैठ कर नमाज पढ़ सकते हैं, तो हम हनुमान चालीसा क्यों नहीं? अब हावड़ा में प्रत्येक मंगलवार को अलग अलग जगहों पर हनुमान चालीसा पढ़ी जाएगी.

जरुर पढ़ें:  भारत के विदेश राज्यमंत्री अकबर को लेकर खुलासा, मैगजीन की एडिटर से जबरदस्ती करते थे किस.

आपको बता दें कि बीजेपी और टीएमसी के बीच ये जंग उस वक्त शुरु हुई जब  लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान अमित शाह की रैली में टीएमसी कार्यकर्ताओं ने अमित शाह और बीजेपी कार्यकर्ताओं पर पत्थरों और डंडों से हमला कर दिया था. उसके बाद भगवान श्री राम के नाम के नारे को लेकर दोनो पार्टियों के बीच बवाल सांत्वे आसमान पर रहा. जिसके बाद शुरू हुआ पोस्टकार्ड वार. जब बीजेपी ने ममता दीदी को जय श्री राम लिखे 10 लाख पोस्टकार्ड तक भेज दिए. जिसके जवाब में टीएमसी ने भी बीजेपी को 20 लाख पोस्ट कार्ड भेजे थे जिन पर लिखा था. ‘वंदेमातरम’ और ‘जय बांग्ला’. पार्टियों के इस घमासान में कुछ कार्यकर्ताओं की जान तक चली गईं.  लेकिन बावजूद इसके ये विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा.

जरुर पढ़ें:  बरेली की साक्षी मिश्रा पर फूटा अभिनेत्री पायल रोहतगी का गुस्सा, वीडियो जारी कर निकाली भड़ास..

अब बंगाल में मचे इस घमासान का अंत कब होगा ये तो नहीं कहा जा सकता. लेकिन इतना जरूर है कि धर्म के नाम पर छिड़ी ये जंग लोगों में मतभेद और दूरियां बढ़ाने का काम जरूर कर रही है.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here