मस्जिद के लाउडस्पीकर से होने वाले शोर पर पिछले दिनों हुआ बड़ा बवाल तो आपको याद ही होगा। लाउडस्पीकर से जिस बॉलीवुड सिंगर की रातों की नींद उड़ गई थी, उसके एक ट्वीट के बाद उनका दिन का चैन भी गायब हो गया था। सानू के ट्वीट के बाद पूरे देश में इस मुद्दे पर बड़ी बहस हुई थी, क्या वाकई मस्जिद के लाउडस्पीकर से ध्वनी प्रदूषण होता है ? 

इस सवाल का जवाब तब भले ही किसी को ना मिल पाया हो, लेकिन अब आईसीएसई बोर्ड इस सवाल का जवाब बच्चों पढ़ा रहा है। जीहां बोर्ड की छठी कक्षा की किताब में बच्चों को यही पढ़ाया जा रहा है, कि मस्जिदें प्रदूषण का कारण है। यहां से ध्वनि प्रदूषण फैलाया जाता है। आईसीएसई बोर्ड की 6th क्लास की किताब के एक चैप्टर में प्रदूषण का कारण मस्जिदों पर लगने वाले लाउडस्पीकर को बताया गया है। इस किताब को लेकर सोशल मीडिया पर हंगामा मचा हुआ है। लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर है, और वे पब्लिशर से माफी के साथ ही, आने वाले संस्करणों से ये फोटो हटाने की मांग कर रहे हैं। ।

जरुर पढ़ें:  लिपिस्टिक और जीन्स हुई पुरानी, अब बाबा रामदेव ला रहे हैं टीवी सीरियल

ये तस्वीर इसी साइंस की किताब काे चैप्टर का एक हिस्सा है, जिसमें प्रदूषण करने वाले यंत्रो की जानकारी दी गई है,  इनमें कार, ट्रेन, प्लेन और मस्जिद की फोटो छापी गई है, जिसमें एक व्यक्ति शोर से परेशान होकर कानों को कसकर बंद करता दिख रहा है। हालांकि बवाल के बाद इस पूरे मामले में पब्लिशर हेंमत गुप्ता ने माफी मांग ली है और कहा कि…

‘किताब के नए संस्करणों में मस्जिद की तस्वीर हटा दी जाएगी और ‘किताब के पेज नंबर 202 पर छपी तस्वीर एक किले के हिस्से से मेल खाती है। अगर इस तस्वीर से किसी की भावनाएं आहत होती हैं तो मैं माफी मांगता हूं।’

Loading...