हमने बचपन में एक कहानी सुनी थी, एक शख्स का जब रसगुल्ले खाने का मन हुआ तो वो एक होटल में पहुंच गया जहां रसगुल्ले खाने का कॉम्पिटीशन चल रहा था। यहां उसे शर्त जीतने के लिए 200 रसगुल्ले खाने थे। इस शख्स ने पूरे 200 रसगुल्ले खा लिए, क्योंकि ये पूरे नहीं खाता तो उसे इन सबके पैसे चुकाने पड़ते। इतने रसगुल्ले खाकर उसका मन भी भर गया और वो शर्त भी जीत गया। लेकिन इसके बाद उसके पेट का जो हाल हुआ वो आप समझ ही गए होंगे।

ये एक कहानी है, लेकिन ऐसा ही कुछ दिल्ली के एक छात्र के साथ हुआ है। दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्र ने शर्त जीतने के लिए चिली बर्गर खा तो लिए, लेकिन शर्त जीतने के बाद ज्यादा बर्गर खाने की वजह से उसका पेट फट गया। सुनकर आपको हैरानी हो रही होगी, लेकिन ये सौ फीसद सच है।   

जरुर पढ़ें:  हिन्दुओं पर गोलियां चलवाकर भी 105 सीटें लाई थी, समाजवादियों शर्म करो- मुलायम सिंह

मामला दिल्ली के राजौरी गार्डन के एक रेस्टारेंट का है, जहां बर्गर खाने का ऑफर रखा गया था, जिसमें जो सबसे ज़्यादा बर्गर खाएगा उसे एक महीने तक फ्री में बर्गर मिलने वाले थे। बस इसी लालच में काम्पीटीशन को पूरा करने के लिए डीयू के एक स्टूडेंट ने अपनी जान की बाज़ी लगा दी। जीहां गर्व नाम के सेकेंड ईयर स्टूडेंट ने राजौरी गार्डन में बर्गर कॉम्पिटीशन में हिस्सा लिया और उसने काफी सारे चीली बर्गर खा लिए। लेकिन दूसरे ही दिन गर्व को खून की उल्टियां होने लगी। इस बात से गर्व डर गया और डॉक्टर के पास पहुंचा, तो पता चला कि बर्गर खाने की वजह से गर्व का पेट फट गया है।

जरुर पढ़ें:  मोदी-योगी की वजह से टूटा लड़की का रिश्ता, पति ने घर से बाहर निकाला

बीएलके सुपर स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल के डॉक्टर दीप गोयल ने गर्व के पेट की लाइनिंग का जो हिस्सा फट गया था उसे निकाल दिया क्योकि उसे दूबारा रिपेयर नहीं किया जा सकता है, और बाकी बची लाइनिंग को ठीक करने के लिए दवाई दी गई है। डॉक्टर दीप ने बताया, कि चीली पेट में एसिटिक और एसिडिटी बनाता है जो सीधी पेट की इनर लाइनिंग पर असर करता है। उन्होंने ये भी कहा, कि पेट से जुड़े कई मामले आते रहते हैं। लेेकिन चीली की वजह से लाइनिंग फट जाने का मामला पहली बार आया है।

पेट की इनर लाइनिंग होती है बेहद ज़रुरी

जरुर पढ़ें:  तो अगला नंबर सोनिया गांधी का है ? मामला खुला तो हो सकती है जेल

आपको बता दें,कि पेट की इनर लाइनिंग पेट को प्रोटेक्ट करती है जिस वजह से इसे प्रोटेक्टिव लाइनिंग भी कहा जाता है,ये लाइनिंग पेट के लिए बहेद ज़रुरी होती है। क्योंकि ये पेट के अंदर स्टम एसिड बनाता है, होर्मोन और इंजायम बनाता है और पेट को इंनफेक्शन से भी बचाता है, इसलिए इसके खराब होने से पेट की कई बिमारियां हो सकती हैं।

Loading...