मोबाईल तो आप सभी के पास होगा, और आप में से कई ऐसे भी होंगे जो देर रात तक फोन इसंतेमाल करते होंगे. लेकिन आज हमारा सवाल आपसे ये है कि फोन यूज करने के बाद यानि सोते समय आप अपना फोन कहां रखते हैं. शायद टेबल पर, या शायद अपने तकिए के नीचे और सिर के पास. तो दोस्तों अगर आप भी उन्ही लोगों में शामिल हैं जो मोबाइल को तकिए के नीचे या सिर के पास रख कर सोते हैं तो आज कि हमारी ये खबर आपके लिए ही हैं. कुछ ऐसा जिसे सुनकर न सिर्फ आप हैरान हो जाएंगे बल्कि परेशान भी हो जाएंगे.

अगर आपसे कोई सवाल पूछे कि एक इंसान के मुंह में कितने दांत होते हैं तो आपका जवाब होगा 32, चलो मान लेते हैं किसी के मुंह में 36 या 38 भी हो सकते हैं लेकिन अगर हम कहे कि एक ऐसा इंसान भी है जिसके मुंह में 500 सेभी ज्यादा दांत हैं तो क्या आप विश्वास कर पाएंगे. सुनने में अटपटा जरूर लगता है  लेकिन ये सच है. मामला चेन्नई के सविता डेंटल कॉलेज का है जहां डॉक्टरों ने एक सात साल के बच्चे के मुंह से ऑपरेशन करके 526 दांत निकाले हैं.

जरुर पढ़ें:  जानिए दिल्ली में बने सबसे ऊंचे सिग्नेचर ब्रिज की खूबसूरती और ख़ासियत के बारे में.

तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि छोटे-बड़े कई तरह के सैंकड़ो दांत आपको दिखाई दे रहे होंगे. ये दांत उसी मासूम के जबड़े से निकले हैं जो 3 साल की उम्र से इस दर्द का शिकार हो रहा था. दरअसल जांच के दौरान डॉक्टरों को बच्चे के मुंह में बैगनुमा एक चीज दिखाई थी. जिसमें छोटे बड़े करीब 526 दांत थे. और वजन करीब 200 ग्राम था. जिसे डॉक्टरों ने 5 घंटों के मुश्किल ऑपरेशन के बाद बाहर निकाल लिया.

डॉक्टरों के मुताबिक़ बच्चे को कम्पाउंड कम्पॉजिट ओनडोन्टओम नाम की बीमारी थी जिससे तीन साल की उम्र से इसके जबड़े में सूजन आ गई. उस वक्त इलाज नहीं हुआ तो सूजन बढ़ती चली गई और जब ये हद से ज़्यादा बढ़ गई तो बच्चे के माता-पिता उसे सविता डेंटल कॉलेज लेकर पहुंचे. जहां जांच के बाद ये सच्चाई सामने आई.

जरुर पढ़ें:  दुनिया के 5 अजीबोगरीब जीव, जिन्हे देखकर डर जाते हैं लोग..

फिल्हाल बच्चा पूरी तरह से फिट है, लेकिन आप सोच रहो होंगे कि इस खबर का भला मोबाइल से क्या ताल्लुक, तो हम आपको बता दें कि ताल्लुक है. और ये हम नहीं कह रहे बलेकि खुद डॉक्टर्स ने इस बात की आशंका जताई है कि बच्चे की ऐसी स्थिति मोबाइल टॉवर के रेडिएशन से हो सकती है. इसके अलावा सिर के पास मोबाइल रखकर सोने से भी ये बीमारी मुमकिन है. साथ ही जेनेटिक डिसऑर्डर को भी डॉक्टरों ने एक बड़ी वजह बताया है.

ऐसे में जो मोबाइल लोगों की जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है. उन्हें अंदाजा भी नहीं कि वहीं मोबाइल उनके लिए कितना खतरनाक साबित हो सकता है. तो दोस्तों वीके न्यूज की आपसे यही अपील है कि सावधान रहें और मोबाइल का इस्तेमाल कम करें.

जरुर पढ़ें:  मुश्किलों के घेरे में फिर आया पाक, FATF कर सकता है ब्लैकलिस्ट..
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here