सीएम योगी को फंसाने वाली साजिश का खुलासा हो गया है. और जिस साजिश का खुलासा हुआ है वो कोई छोटी मोटी साजिश नहीं थी. बल्कि सीएम योगी को 302, 153ए, 153बी, 147, 143, 427, और 452 धाराओं मे फंसाने का पूरा जाल कसा गया था. और ये जाल 10 साल से बिछाया जा रहा था. मगर अब इस साजिस को कोर्ट ने बेनकाब कर दिया है.

दरअसल साल 2007 में गोरखपुर और उसके आसपास के इलाकों में सांप्रदायिक दंगे भड़के थे. इन दंगों में गोरखपुर के तत्कालीन सांसद और उत्तर प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आरोपी बनाया गया था. अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है. जांच में सामने आया है कि इस मामले में सबूत के तौर पर पेश की गई सीडी, जिसमें योगी आदित्यनाथ और अन्य भाजपा नेताओं के भड़काऊ भाषण रिकॉर्ड थे. उसके साथ छेड़छाड़ की गई थी.

जरुर पढ़ें:  नतीजों से पहले कन्हैया कुमार ने की जनता से अपील, लोगों को दी रिश्तेदारों को फोन करने की सलाह..

एनबीटी में छपी एक खबर के मुताविक, हाल ही में पूर्व एमएलसी वाईडी सिंह ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया था. जिसके बाद कोर्ट ने दंगा मामले में सीएम योगी पर मुकदमा दर्ज करवाने वाले परवेज परवाज के खिलाफ ही केस दर्ज करने का आदेश दे दिया है. अब आपको इस पूरे मामले के बारे में बता देते हैं. आखिर ये पूरा मामला है क्या.

दरअसल साल 2007 में एक युवक की हत्या के बाद गोरखपुर और आसपास के इलाकों में सांप्रदायिक दंगा फैल गया था. जिसमें 2 लोगों की मौत हुई थी और कई लोग घायल हुए थे. इस दौरान योगी आदित्यनाथ, तत्कालीन विधायक आरएमडी अग्रवाल, मेयर अंजू चौधरी, भाजपा नेता शिव प्रताप शुक्ल और वाईडी सिंह पर एक सभा के दौरान भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाया गया था. जिसके बाद दंगा भड़का. परवेज परवाज नामक शख्स ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कराकर उपरोक्त सभी लोगों को दंगा भड़काने के आरोप में नामजद किया था.

जरुर पढ़ें:  पाकिस्तान में 400 साल पुराना तोडा गुरु नानक महल...

जिसके बाद योगी आदित्यनाथ के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने और उन्माद फैलाने की धाराओं सहित 302, 153ए, 153बी, 295, 295बी, 147, 143, 427, 452 के तहत कैण्ट थाना में मुकदमा दर्ज किया गया. परवेज ने इस दौरान एक सीडी सबूत के तौर पर पेश की थी. वैसे तो ये मामला फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में लंबित है. लेकिन फोरेंसिक जांच में सीडी को एडिट किए जाने और छेड़छाड़ की पुष्टि की गई है.

इसके आधार पर पूर्व एमएलसी वाईडी सिंह ने एसीजेएम प्रथम नुसरत खां के समक्ष अर्जी देकर कहा था कि परवेज ने छवि धूमिल करने के लिए फर्जीवाड़ा किया. और अब अदालत ने कैंट पुलिस को परवेज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आदेश दे दिया है. सीएम योगी के खिलाफ साजिश रचने वाले शख्स को लेकर आपकी क्या राय है. कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं.

जरुर पढ़ें:  अंतरिक्ष में युद्ध के लिए तैयार हैं मोदी, बनाई नई सुरक्षा एजेंसी DSRO

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here