देश अभी लाइनों से बाहर निकलकर राहत की सांसें गिन ही रहा था, कि अफवाहों के बाजार में ये खबर खूब बिक रही है, कि सरकार फिर आपको लाइन में लगवाने वाली है। एक बार फिर आपको अपने ही पैसे को लिए बैंकों के चक्कर काटने पड़ेंगे। ऐसी अफवाहें हैं, लेकिन इन अफवाहों में दम भी लग रहा है। क्योंकि आरबीआई जो इशारे दे रहा है, उसके बाद हम इन अफवाहों पर यकीन करने को मजबूर हो रहे हैं।

ATM से 2000 के नोट हुए गायब!

हाल के दिनों में अगर आप एटीएम गए हो और आपने गौर किया हो, तो पहले जहां आपको पैसे निकालने पर 2000 के नोट भी मिलते थे, वो अब निकलने बंद हो गए हैं। और एटीएम से सिर्फ 500 और 100 रुपए के नोट निकल रहे हैं। इसकी वजह बैंकिंग सूत्र बता रहे हैं, कि RBI ने बैंकों को 2000 रुपये के नोट भेजने कम कर दिए हैं और इसकी जगह 500 और 100 रुपए के नोटों की ज्यादा सप्लाई की जा रही है। इसी वजह से एटीएम से भी 2000 के नोट को गायब हो रहे हैं। 

जरुर पढ़ें:  ग़जब- सियासत के बाजीगर की 5 साल में 300 गुना बढ़ी संपत्ति

zeenews.india.com की रिपोर्ट के मुताबिक एसबीआई के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर नीरज व्यास ने भी इस बात की पुष्टी की है, कि RBI ने 2000 के नोटों की सप्लाई बैंकों को कम कर दी है। उन्होंने बातचीत में कहा, कि

 ‘अभी हमें आरबीआई से हाई वैल्यू करंसी में 500 रुपये के नोट मिल रहे हैं। 2000 रुपये के नोट हमारे काउंटर्स पर रीसर्कुलेशन के जरिए आ रहे हैं।’ 

छोटे नोटों की सप्लाई पर RBI का जोर 

मतलब आरबीआई मार्केट में छोटे नोटों की सप्लाई बढ़ा रहा है, जिसमें 50, 100 और 500 रुपये के नोट शामिल हैं। अगस्त के आखिर तक नया 200 रुपये का नया नोट भी बाजार में आने वाला है। बैंकिग सूत्र आरबीआई की प्लानिंग को 2000 रुपये के नोट को बाहर का रास्ता दिखाने की शुरुआत बता रहे हैं। वैसे बैंकिंग सूत्रों की बात में भी दम है, क्योंकि अभी 11 अप्रैल को नोटों की छपाई के लिए प्रॉडक्शन प्लानिंग की जो बैठक हुई। उसमें रिजर्व बैंक ने 2000 के सौ करोड़ नोट छापने की मंजूरी मांगी थी लेकिन वित्त मंत्रालय ने मना कर दिया। हालांकि छोटे नोट छापने के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी।

जरुर पढ़ें:  बेटे की घिनौनी हरकतों से तंग आकर मॉं ने सुपारी देकर कराया कत्ल
SBI एटीएम मशीनों को रिकैलिब्रेट कर रहा है-

खबर ये भी है कि SBI देश भर में लगे अपने एटीएम को रिकैलिब्रेट करने में लगा है। SBI के देशभर में लगभग 58,000 एटीएम हैं, जिनमें से कई एटीएम में 2000 रुपये के नोटों की करंसी कैसेट्स को 500 रुपये के नोटों के लिए रीकैलिब्रेट कर रहा है।

संघ और बाबा रामदेव भी कर चुके हैं विरोध

वैसे आपको पता ही होगा, कि जब सरकार ने 2000 का नोट लांच किया था, तो सरकार की बड़ी आलोचना हुई थी। विपक्ष के साथ ही, बीजेपी और सरकार का हमेशा समर्थन करने वाले बाबा रामदेव ने भी सरकार के इस कदम का विरोध किया था। बाबा रामदेव ने कहा था, कि “भविष्य में सरकार को 2,000 रुपये नोट जारी करने के फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए” वहीं बीजेपी की जननी आरएसएस भी इस बात के संकेत दे चुका था, कि 2000 के नोटों को चरणबद्ध तरीके से धीरे-धीरे बाहर किया जाएगा। 2016 के आखिरी महीने में एक निजी पत्रिका से बातचीत में RSS के विचारकर एस गुरुमूर्ति ने कहा था, कि “अगले 5 सालों में 2000 रुपये के नए नोट को चरणबद्ध तरीके से बाजार से बाहर कर दिया जाएगा”। इसलिए सवाल उठ रहा है, कि क्या ये उस चरण का पहला कदम है ?

Loading...