गुरमीत राम रहीम खुद को कहता तो बाबा है, लेकिन उसके कुकर्मों की जब पोल खुली, तो उसकी बाबागीरी दुनिया के सामने बेनकाब हो गई। साध्वियों से रेप के आरोप में दोषी पाए जाने पर इस बाबा को 20 साल के लिए जेल भेज दिया गया है। इस पाखंडी बाबा की दुनिया जितनी रहस्यमय है, उतना ही इसका परिवार भी। भक्तों की आंख में धूल झोंककर खुद को भगवान बताने वाले डेरा सच्चा सौदा के इस मुखिया ने जितने राज अपने आश्रम में छिपाएं हैं, उतने ही अब उनके परिवार के राज भी खुलकर सामने आ रहे हैं। जी हां, राम रहीम के साथ कोर्ट से लेकर रोहतक जेल तक साये की तरह उनके साथ रहने वाली हनीप्रीत इंसां आखिर कौन हैं? और इसकी असली कहानी क्या है, जब जानेंगे तो आपके होश उड़ना तय है।
गुरमीत राम रहीम और हनीप्रीत इंसां
राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद जो लड़की उनके साथ नज़र आई थीं, जिसे हर जगह राम रहीम के साथ देखा जा रहा था, उसका खुलासा हो चुका है, कि आखिर ये हनप्रीत इंसां है कौन? आपको बता दें कि गुरमीत राम रहीम के परिवार में उनकी दो बेटियां और एक बेटा है। बाबा की बड़ी बेटी चरणजीत और छोटी बेटी अमनप्रीत है, लेकिन इसके अलावा बाबा ने एक बेटी को और गोद लिया है, जो सात सालों से उनके साथ रह रही है, और उसकी बड़ी खास है। ये वहीं बेटी हनीप्रीत इंसां है। जी हां, वही हनीप्रीत जो गुरमीत राम रहीम के साथ खबरों की सुर्खिया बनी हुई थीं। बताया जा रहा है कि बाबा के हनीप्रीत के साथ अवैध संबध है।

हनीप्रीत इंसां की कहानी

गुरमीत राम रहीम की गोद ली हुई हनीप्रीत इंसां असल में हरियाणा के फतेहाबाद की प्रियंका तनेजा है। जो कि तलाकशुदा लड़की है और राम रहीम की बेहद खास है। प्रियंका का परिवार पहले फतेहाबद के जगजीवनपुरा में रहता था। उसके दादा लंबे समय से डेरा सच्चा सौदा के सेवादार थे। उनके बाद परिवार ने डेरे से नामदान लिया। पांच साल पहले पुश्तैनी मकान बेचकर पूरा परिवार डेरे में रहने चला गया था। उसके पिता रामानंद का नेशनल हाईवे पर किसान टायर्स नाम से शोरूम था। हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा उर्फ अनु था। जिन्होने अपनी शुरुआती पढ़ाई फतेहाबाद के डीएवी स्कूल से हुई।

जरुर पढ़ें:  31 साल की टीचर का 17 साल के स्टूडेंट पर आया दिल और फिर....
हनीप्रीत इंसां
आपको बता दें, कि हनीप्रीत का परिवार डेरे के शाही परिवार में शामिल है। उसके पिता रामानंद डेरा परिसर में सीड्स प्लांट चलाते हैं। छोटी बहन निशा की शादी फतेहाबाद निवासी संजू बजाज से हुई है। संजू गुरुग्राम में बिजनेस करते हैं। भाई साहिल पिता के साथ कामकाज में हाथ बंटाता है। इसके बाद प्रियंका की शादी डेरा प्रमुख के आशीर्वाद से 1998 में हुई थी।  साल 1998 में डेरामुखी की पहल पर प्रियंका की शादी पंचकुला के विश्वास गुप्ता के साथ डेरे में हुई थी। कुछ साल तक साथ रहने के बाद दोनों में विवाद हो गया और अलग रहने लगे। साल 2007 में उनका तलाक हो गया। प्रियंका के पती ने उसके डेरा प्रमुख के साथ संबंध होने के आरोप भी लगाए थे।

तलाक के बाद मिला प्रिंयका को नया नाम

तलाक के बाद प्रियंका को राम रहीम ने गोद ले लिया और उसे हनीप्रीत इंसा नाम दिया। इसके बाद से हनीप्रीत साये की तरह राम रहीम के साथ रहती है। पिछले सालों में आई राम रहीम की फिल्मों में हनीप्रीत का खास रोल दिया गया है। फिल्मों में वो राम रहीम के साथ सह-निर्देशक एवं सह निर्माता तो बनी ही साथ ही ऐक्ट्रेस के तौर पर भी काम किया। और अब बताया जा रहा है कि हनीप्रीत इंसां जो गोद ली हुई बेटी है गुरमीत राम रहीम  का उसके साथ भी अवैध संबध थे। जो डेरा सच्चा में रहा रहीम की दत्तक बेटी कही जाती थी।
गुरमीत राम रहीम और हनीप्रीत इंसां
 साध्वी यौन शोषण में डेरा प्रमुख को 10 साल की सजा सुनाने के बाद सभी भक्तों के मन में यही सवाल उठ रहा है कि डेरे का अगला उत्तराधिकारी कौन होगा? बता दें, कि डेरा प्रमुख का परिवार नया डेरा परिसर में ही रहता है और शाही जीवन जीता है। माना जा रहा है कि डेरे के संचालन हनीप्रीत को दिया जा सकता है। जबकि संगत को संभालने का काम जसमीत को सौंपा जा सकता है। फिलहाल गुरु गद्दी खाली रहेगी।
Loading...