भारत जैसे देश के किसी इलाके के मोहल्ले या गली में कोई ऐसा बच्चा जन्म ले, जो आधा पुरुष और आधी महिला हो, तो उसके लिए ना जाने लोग किस तरह की सोच रखना शुरु कर देते हैं। उनके लिए इस तरह के बच्चे का होना, समाज के लिए कलंक या अभिशाप बन जाता है। लेकिन उन्हीं किन्नर बच्चों से ज़रा पूछा जाए, कि वो किस तरह अपनी जिन्दगी में घुटन महसूस करके जीते हैं, जहां उनका साथ ना तो, समाज देता है और ना ही उनके खुद के मां-बाप। लेकिन कहते है,ं विश्वास और हिम्मत से किया हुआ काम हमेशा सफल होता है, और ऐसा ही हुआ नितिशा के साथ, जिसकी खूबसूरती देख कोई नहीं जान पाएगा, कि ये एक ट्रांसजेंडर हैं, जिन्होंने भारत की पहली ट्रांसजेंड़र बनने का खिताब जीता है। लेकिन इस फेम के पीछे उनका लड़के से लड़की बनने का सफर कितनी परेशानियों से भरा रहा, चलिए बताते हैं।

India first transqueen Nitasha Biswas

कोलकत्ता के बंगाली परिवार में पली-बढ़ी निताशा बिस्वास, समाज के आम बच्चों से हटकर पैदा हुई हैं। जिसने शारिरीक रुप से तो लड़के का जन्म लिया, लेकिन अंदरुनी भवनाएं लड़कियों वाली थी, जिसे समझ पाना निताशा के परिवारों के लिए मुश्किल था। लेकिन अपनी तीन साल की उम्र में नितिशा इस बात को बेहद ही अच्छे से समझ गई, कि उनके अंदर कुछ तो परेशानी है, जो अंदर ही अंदर उसे घुटन महसूस कराती है। जिसके लिए वो हर दिन, हर रात बेहद ही परेशान रहती हैं। नितिशा ने अपनी इस परेशानी को पहले अपने भाई से शेयर करना बेहतर समझा, लेकिन जब निताशा के भाई ने इस बारे में जाना, तो कह दिया कि वक्त के साथ ठीक हो जाएगा, कोई परेशानी नहीं है।

जरुर पढ़ें:  किन्नरों का मज़ाक बनाने वाले सावधान, पहले जोइता मंडल से मिल लीजिए
India first transqueen Nitasha Biswas

नितिशा के भाई के ऐसा कहने के बाद वो और परेशान हो गई, क्योंकि एक तरफ तो नितिशा के अंदर लड़कियों वाली भावनाएं आ रही थी और दूसरी तरफ घर वाले उसे लड़का समझते थे। लेकिन नितिषा सिर्फ शारिरीक रुप से ही लड़का थी बाकि सब भावनाएं लड़कियों वाली थी, जिसको लेकर वो हमेशा परेशान रहा करती थीं, कि आखिर वो करें, तो क्या करें।

Nitasha Biswas Childhood pic

एक दिन निताशा के पिता ने उनसे कहा कि, वो उनकी शादी लिए एक बंगाली लड़की देख रहे हैं, तब नितिशा ने अपने परिवार वालों से कह दिया कि, वो किसी लड़की से शादी नहीं करना चाहती, बल्कि एक लड़के से करना चाहती हैं। परिवाराले इस बात के खिलाफ थे, तो नितिशा ने घर छोड़ने का फैसला लिया और वो बिना बताए, कोलकत्ता से दिल्ली शिफ्ट हो गई, जहां आकर उन्होंने अपना ट्रीटमेंट करवाया।

जरुर पढ़ें:  वीडियो देखकर आपका खून खौल उठेगा, इंसान के बीमार होने का जिंदा सबूत है ये

लड़के से लड़की बनने में चार साल का लगा वक्त

दिल्ली आकर नितिशा ने अपना ट्रीटमेंट शुरु करवाया, उन्होंने HRT यानी हारमोनल रिप्लेसमेंट थैरेपी का सहारा लिया। नितिशा बताती है उनका अपने मां-बाप से दूर होकर सेक्स चेंज कराने का सफर बेहद ही मुश्किलभरा रहा, जहां वो लगातार पूरे ट्रीटमेंट में साइकोलॉजिस्ट की भी सलाह लेती रही, क्योंकि सेक्स चेंज में ये ज़रुरी है, कि आप मानसिक रुप से भी तैयार हो। इसी के साथ वो अपने भाई से कॉन्टेक्ट में रही। अपने इस सफर में नितिशा को तीन से चार सालका समय लगा और अपना मेहनत के बाद, वो आज भारत की पहली ट्रांसजेंडर बन गई है। अपने होसलों पर बुलंद निताशा का सपना है कि वो बॉलीवुड में एंन्ट्री करे।

India first transqueen Nitasha Biswas

निताशा कर रही है, ट्रांसजेंडरों के लिए मांग

26 साल की निताषा का मानना है, कि समाज के भेदभाव चे चलते 70% ट्रांसजेंडर्स डिप्रेशन का शिकार होते हैं, उनके लिए ना तो कोई जॉब सपोर्ट है और ना ही उनकी मदद के लिए कोई आगे आता है। इसी के चलते ज्यादातर ट्रांसजेंड़र सेक्स ट्रेड का हिस्सा बन जाते हैं। निताशा अब ट्रांसजेंडर के हितों के लिए बात कर रही हैं, उनका कहना है कि..

‘हम लोगों को भी समाज का हिस्सा माना जाएं और हमारे लिए भी रोजगार संबधी उपलब्ध प्रोग्राम चलाए जाएं, दुनिया में बहुत सी एयरलाइन्स में ट्रांसजेंड़र एयर हॉस्टेस हैं हमारे इंडियन एयरलाइन्स में इस तरह के अवसर क्यों नहीं है?’

India first transqueen Nitasha Biswas

निताशा आगे मांग कर रही हैं, कि ग्रामीण इलाकों में भी ट्रांसजेंड़र विमेन की पढ़ाई के लिए बोर्डस की नियुक्ति की जानी चाहिए। इतना ही नही, निताशा का कहना है, कि संसद में ट्रांसजेंड़र MP की भी सीट होनी ज़रुरी है, क्योंकि एक ट्रांसजेंड़र MP ही ट्रांसजेंड़र से जुड़ी परेशानियों को समझ सकता है। आपको बता दें, कि निताशा पर अलका वासुदेवा एक किताब लिखने जा रही हैं, जिसका टाइटल होगा-Nitasha:The Voice of many। इतना ही नहीं, कोलकाता से मैनजमेंट में मास्टर्स कर रही निताशा अगले साल थाईलैंड में होने वाले इंटरनेशनल ट्रांसजेंड़र काम्पीटिशन मेंं हिस्सा लेने वाली हैं, जहां वो इंडिया को रिप्रेजेन्ट करती नज़र आएगी।

Loading...