भारतीय रेलवे हमेशा अपने ढीले रवैये की वजह से चर्चा में रहा है, चाहे फिर वह खाने की बात हो या रेल सेवाओं के विकास की बात हो रेलवे विभाग हर जगह ढीला ही नजर आता है। भारतीय रेलवे के बारे में अगर ये कहा जाए कि भारतीय रेल विभाग ऐसा तबला है जिसे पूरी ताकत से बजाने पर भी उसमें से कोई धुन नहीं निकलती, यह गलत न होगा।

Demo Pic

पर रेलवे विभाग ने इस कहावत को पूरी तरह से गलत साबित कर दिया है, भारतीय रेलवे ने यूपी में महज़ साथ घंटों में नया ब्रिज बनाकर टीम वर्क की मिसाल पेश कर दी है। पहले इस पुल पर ट्रेनें धीमी गति से गुजरती थीं। नजीबाबाद -मुरादाबाद रेललाइन के बीच बुंदकी स्टेशन के पास डाउन लाइन का पुलस सौ साल से ज्यादा पुराना था। इसे बनाकर रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग ने काबिल-ए-तारीफ काम किया है।

जरुर पढ़ें:  S-400 डील के बाद चीन का बड़ा कदम, 48 मिलिट्री ड्रोन देगा पाकिस्तान को

ख़बरों के मुताबिक,  तीन जनवरी की सुबह 9.35 बजे प्रवर मंडल अधीक्षण अभियंता प्रथम पारितोष गौतम तकनीकी स्टाफ के साथ वहां पहुंचे। फिट पूरी टीम के साथ फिर पुल के ऊपर बनी रेल लाइन को हटाने, पुराने पुल को तोड़ने और मलबा हटाने का काम दोपहर 1.24 बजे तक पूरा कर दिया गया। फिर शुरू हुआ नया पुल बनाने का काम. दोपहर तीन बजे तक फैब्रिकेटिंग मैटेरियल से पुल का ढांचा रख दिया गया।

सात घंटे 20 मिनट बाद शाम सवा पांच बजे के क़रीब नए पुल परलाइन डालने का काम पूरा हो गया। शाम 5.40 बजे देहरादून से इलाहाबाद जाने वाली लिंक एक्सप्रेस को धीमी गति से नए पुल से गुज़ारा गया। मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल ने उम्मीद जताई है कि अब बुंदकी से गुज़रनी वालीं ट्रेनें सौ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकेंगी।

जरुर पढ़ें:  भारतीय रेलवे को मिली बड़ी सफलता, अब लोग टाइम से कर सकेंगे सफर!

भारतीय रेल विभाग ने इस सराहनीय कार्य़ की तो तहे दिल से तारीफ के काबिल है, पहली बार रेलवे ने कोई ऐसा काम किया है जो जनता को काफी पसंद आ रहा है।

Loading...