बीच पर घूमना, लहरों से अटखेलियां करना किसे पसंद नहीं है. लेकिन अगर आप मुंबई जाने का प्लान बना रहे हैं और यहां समंदर  किनारे वक्त बिताने की सोच रहे हैं, तो ये खबर आपके लिए ज़रूरी है. यहां बीच पर घूमते वक्त अगर आपको गोंद जैसी कोई चीज दिखाई पड़े, तो सावधान हो जाइएगा. आम तौर पर ये जेलीफिश होती है, जिसके रेशे नहीं दिखाई पड़ते. इसे न तो पैर से छुएं और न ही हाथ से, वरना आप मुश्किल में पड़ सकते हैं.

जेलीफिश File Pic

जीहां मुंबई में जेलीफिश कहे जाने वाले इस जीव के आंतक से बीएमसी यानी मुंबई महानगर पालिका भी परेशान हो गई है, इसलिए अब बाकायदा एडवाइजरी जारी कर लोगों को बीच पर न जाने के लिए कहा गया है. आपको बता दें, कि इस जीव के डंक मारने से अबतक कई लोगों के घायल होने खबरें आ चुकी है, जिसके बाद बीएमसी को ये कदम उठाना पड़ा है.

जरुर पढ़ें:  एकिडो में ब्लैक बेल्ट रह चुके हैं राहुल गांधी, सोशल मीडिया पर फोटो हो रही है वायरल
मुंबई के बीच पर जेलीफिश

इसका नाम जेलीफिश है, क्योंकि ये एकदम जेली जैसी दिखती है. इसके शरीर में 95 फीसद पानी होता है. जेलीफिश का मुंह अंदर की तरफ बीच में होता है. इसका दिमाग नहीं होता, सिर्फ नर्वस से सेंस करके ये प्रतिक्रिया करती है. लेकिन ये इतनी शातिर शिकारी है, कि अपने चमकीले रंग से शिकार को अपनी ओर बुलाती है और फिर उसका शिकार कर देती है. कमाल की बात ये है, कि ये आपके मारने से मरती नहीं है. अगर आप इसके दो टुकड़े भी कर देंगे, तो भी इसका दम नहीं निकलता. कटे हुए दूसरे टुकड़े से एक नई जेलीफिश पैदा हो जाती है. यानी इसके जितने टुकड़ें करेंगे ये उतनी ज्यादा पैदा होंगी.

जरुर पढ़ें:  ट्रंप की पत्नी को पीएम मोदी ने दिया ये खास तोहफा, बेटी ने कहा शुक्रिया
मुंबई बीच पर जेलीफिश

इनका शिकार सिर्फ कछुए और कुछ दूसरी मछलियां करती है. इन्हीं से बचने के लिए ये समुद्री तटों पर आ जाती है.ये वक्त जेलीफिश के प्रजनन का भी वक्त है. ये काफी हल्की होती है, इसलिए लहरों के साथ बहकर किनारों पर आ जाती हैं. बताया जाता है, कि जेलीफिश इस दुनिया में इंसानों के पहले से मौजूद है. लगभग 650 मिलियन साल पहले से यानी कि 65 करोड़ साल पहले से ये मौजूद है. तब धरती पर डायनासोर भी नहीं हुआ करते थे. जेलीफिश के आकार के बारे में अक्सर नई बातें पता चलती हैं. कुछ समय पहले ही लगभग 8 फीट के डायमीटर के आकार की एक जेलीफिश मिली थी. इसकी मूंछ 120 फीट लंबी तक मिल चुकी है.

जरुर पढ़ें:  राम मंदिर निर्माण के लिए बजरंग दल ने निकाली, इतने सैनिकों की बम्पर भर्ती.
मुंबई बीच

जेलीफिश बेहद ही खतरनाक जीव है. इनके काटने से काफी तेज दर्द होता है, जो कई दिनों तक बना रहता है।अगर किसी इंसान को ये डंक मार दे, तो उसे बहुत ज्यादा दर्द होता है और काटे हुए जगह पर चकत्ते पड़ जाते हैं। इतना ही नहीं वो जगह सुन्न भी पड़ जाती है. कई मामलों में तो लोग बहरेपन की शिकायत भी कर चुके हैं. मुंबई में पिछले कुछ ही दिनों में 20 लोग इन जहरीली मछलियों का शिकार हो चुके हैं. तो आप भी इस मछली से सावधान रहे…क्योंकि कहते हैं खूबसूरत चीजें हमेशा खतरनाक होती है.

Loading...