एक 20 साल की लड़की के सामने महिला कोच में एक लड़के के हस्तमैथून करने के वीडियो ने खूब तहलका मचाया था, ये मामला अभी शांत हुआ भी नहीं था कि फिर एक मनचले की ऐसी ही एक हरकत सामने आई। मुंबई की लोकल ट्रेनों में लगतार घट रहे ये अपराध, ये बताने के लिए काफी है, कि लोकल ट्रेन में लडकियों और महिलाओं का सफर कितना मुश्किलभरा और परेशान करने वाला होता है।

लेकिन इन्हीं परेशानियों और मुश्किलों के बावजूद लोकल की लाइफ कितनी मजेदार, तकलीफदेह और एडवेंचरस होती है ये अगर आप जानना चाहते हैं, तो आपको ट्रेन कास सफर करने की ज़रूरत नहीं है। इंस्टाग्राम पर जाइए और फोटो जर्नलिस्ट अनुश्री फडणवीस को फालो कर लीजिए।

Met Kajal after a long time. She has coloured her hair. #traindiaries

A post shared by Anushree Fadnavis (@anushree_fadnavis) on

मुबंई की रहने वाली अनुश्री फडणवीस एक फोटो जर्नलिस्ट हैं, जो डेली मुबंई की लोकल ट्रेन में सफर करने वाली महिलाओंं की जिन्दगी को अपने कैमरे में कैद कर इंस्टा पर दिखाती हैं। वो अलग-अलग फोटोज़ को क्लिक कर ये दिखाती हैं, कि महिलाएं और लड़कियां किस तरह चार-पांच घंटों के सफर को ट्रेन में एन्जॉय करती हैं। अनुश्री  लोकल ट्रेन में महिलाओं की फोटो खींचकर उन्हें इंस्टा पर शेयर करती है और साथ में एक मजेदार कहानी बयां करती हैं। हर फोटो के साथ एक मजेदार कैप्शन भी ज़रुर देती हैं। अनुश्री की क्लिक की हुई फोटो भी बेहद यूनिक होती है। इन फोटो में वो लोकल के उन रंगों को दिखाती है, जो लोकल लाइफ का हिस्सा बन चुकी है।

जरुर पढ़ें:  मुंबई लोकल में हस्तमैथून के बाद अब रोमांस का वीडियो हुआ वायरल

देखें – अनुश्री के कैमरे में कैद लोकल ट्रेन में महिलाओं की लाइफ..

Women pass around paper plates filled with food in the ladies compartment of the Mumbai local train. If there is any birthday, like in this situation it was the birthday of one of the members’ daughter, or any other festival, ladies in the compartment don’t spare any effort to celebrate that particular occasion. And they do it so lovingly and also invite the other women around them. I have also been invited in celebrations so many times. I am sure most of the other ladies also must have experienced the same. And if you think it is one woman’s responsibility to organize these then no. Women take it upon themselves, they plan and decide the budget and share. I have been welcomed so lovingly in some groups and sometimes I feel like I am a part of them. While some women want to sleep and want silence in the train . They crib of such women in groups . But there is something about these groups that I love .Sometimes it is this sense of belonging, companionship that draw these women together, . Also the love , the care and the crazy fun that they have. #traindiaries #mumbaidiaries

A post shared by Anushree Fadnavis (@anushree_fadnavis) on

The comfort we find in that small space we call a second home. #traindiaries

A post shared by Anushree Fadnavis (@anushree_fadnavis) on

‘अनुश्री फडणवीस’ मुबंई की इंडस इमेजेज कंपनी में काम करती हैं, अपनी इस फोटो सीरीज को अनुश्री ने ‘ट्रेन डायरी’ का नाम दिया है। ऐसा नहीं है, कि अनुश्री का ये काम इतना आसान है, इस काम में उसे काफी समस्याएं भी आती हैं। कुछ महिलाएं तो तस्वीरों को आसानी से खींचने देती हैं लेकिन कुछ उऩको फोटो खीचने के लिए पुलिस तक खींच ले जाती हैं। अब अनुश्री की लोकल में सफर करने वाली कई महिलाओं से दोस्ती भी हो गई हैं, इनमें कई ट्रांसजेंडर भी शामिल हैैं।

Loading...