पहले हम सिर्फ हरित क्रांति और दुग्ध क्रांति के बारे में ही जानते थे, लेकिन 2014 में लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने हमें एक नई क्रांति की जानकारी दी थी। वो थी ‘पिंक रिवोल्यूशन’। शायद आपको याद हो न हो, ये ‘गुलाबी क्रांति’ क्या है? आपको नहीं याद है, तो कोई बात नहीं, 2014 का नरेंद्र मोदी का ये भाषण सुन लीजिए आगे समझने में आसानी होगी।

ये रहा वो 2014 वाला वीडियो-


पीएम नरेंद्र मोदी ने जब ये भाषण दिया था, तब वो देश के पीएम नहीं बने थे, बनने की प्रोसेस में थे, यानि उम्मीदवार  घोषित हो गए थे और जीत के लिए जगह-जगह इसी तरह के भाषण देते फिर रहे थे। तब इस गुलाबी क्रांति का बम फोड़कर मोदी जी ने खूब सुर्खियां बंटोरी थीं। टीवी पर इसको लेकर खूब डिबेट भी हुई थी। तब लोगों को लगा था, कि मोदी जी आएंगे, तो देश में हो रही है इस नई तरह की क्रांति पर रोक लगेगी। लेकिन मोदी जी का तीन साल का कार्यकाल खत्म होने के बाद इसपर रोक लगने की बजाय ये क्रांति उनके कार्यकाल में ही तेज़ी से बढ़ रही है।

जरुर पढ़ें:  राष्ट्रपति की बेटी को सेल्फी लेना पड़ा भारी, सोशल मीडिया पर लोग दे रहे हैं गालियां

सुनने में थोड़ा अजीब ज़रूर लग रहा है लेकिन ये कोई विपक्ष का आरोप नहीं है, बल्कि सरकार ने ये आंकड़ें खुद संसद के पटल पर रखे हैं। इन आंकड़ों की माने तो भारत मांस निर्यात के मामले में अग्रणी देशों में शुमार है। और साल 2016-17 में मांस निर्यात में कमी आने के बजाय 17 हज़ार टन बढ़ गया है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने ये आंकड़ें एक प्रश्न के लिखित जवाब के तौर पर गुरूवार को राज्यसभा में दिए हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक, भारत का मांस निर्यात 2016-17 में बढ़कर 13.53 लाख टन हो गया जो पिछले वित्त वर्ष में 13.36 लाख टन था। हालांकि रुपए के हिसाब से देखा जाए तो निर्यात घटकर 27,184 करोड़ रुपये का रह गया है, जो साल 2015-16 में 27,528 करोड़ रुपये का हुआ था। मंत्री जी ने ये अलग से दिए एक उत्तर में ये भी बताया, कि सरकार को मांस के निर्यात पर रोक लगाने के बारे में कुछ ज्ञापन मिले हैं। मतलब लोग चाहते हैं, कि पीएम मोदी की 2014 की मंशा के मुताबिक पिंक रिवोल्यूशन बंद हो।

जरुर पढ़ें:  31 साल की टीचर का 17 साल के स्टूडेंट पर आया दिल और फिर....
राज्यसभा में निर्मला सीतारमन

ये आंकड़े देखकर और मंत्री जी का बयान सुनकर हमारा कलेजा तो रो रहा है। लेकिन पीएम मोदी इस पर क्यों चुप हैं और ये कैसे सह रहे हैं ? ये हम नहीं समझ पा रहे हैं। क्योंकि 2014 में नरेंद्र मोदी ने ही कहा था कि,

“पूरे विश्व में बीफ एक्सपोर्ट में हिंदुस्तान नंबर वन है। किन चीजों के लिए गर्व किया जा रहा है, भाइयो और बहनों आपका कलेजा रो रहा या नहीं, मुझे मालूम नहीं, मेरा कलेजा चीख-चीख कर पुकार रहा है। और आप कैसे चुप हैं, कैसे सह रहे हैं, मैं समझ नहीं पा रहा हूं.”

वैसे मोदी जी के आने के बाद से ही देश में गाय, गोमांस और मांसाहार पर गृहयुद्ध जैसे हालात हैं। लोगों को पीट-पीटकर मारने की घटनाएं सामने आई हैं। यूपी में योगी जी ने आते ही अवैध बूचड़खानों पर कैंची चलाई है। गुजरात के सीएम विजय रूपानी गुजरात को शाकाहारी राष्ट्र बनाने की इच्छा जाहिर कर चुके हैं। लेकिन अभी दो-तीन दिन पहले ही गोवा के सीएम ने अपने लोगों को आश्वस्त किया है, कि बीफ की कमी नहीं होने दी जाएगी, कम पड़ा तो दूसरे राज्यों से मंगाया जाएगा।

Loading...