इंडिया में लड़कियों के साथ रेप की घटनाएं सबसे ज्यादा होती हैं। लड़कियों के साथ रेप होते है और सरकार नए-नए कानून और सुरक्षा के इंतज़ाम करने में जुट जाती है। लोग कुछ वक्त के लिए सड़कों पर उतर आते हैं, लेकिन समस्या जस की तस बनी रहती है। लड़कियों के साथ इस तरह की घटना में कोई कमी नहीं आई है। बल्कि  ऐसी घटनाओं के बाद पुलिस पर देरी से पहुंचने और मदद न करने के आरोप लगते रहते हैं। लेकिन अब लड़कियां खुद ही अपनी सेफ्टी कर पाएंगी। अब लड़कियों के लिए एक आईटी स्टूडेंट ने ऐसी डिवाइज़ तैयार की है, जो बलात्कारी के पसीने छुड़ा देगी।

डेमो फोटो

इंडिया भले ही इस बात को नहीं समझ पाया हो, कि एक अकेली लड़की की सेफ्टी सिर्फ उसके हाथों में है, जिसकी लड़ाई उसे खुद लडनी होती है। लेकिन एक एमआईटी की स्टूडेंट, जो खुद एक लड़की है, उसने इस बात को समझा और लड़कियों के लिए एंटी-रेप डिवाइज बनायी है। इससे पहले भी कई एंटी-रेप डिवाइज़ बनाए गए हैं। जिसमें एंटी-रेप जैकेट, एंटी-रेप टैपोन और एंटी-रेप अंडरवेयर बनाए शामिल हैं। लेकिन इस बार इंडिया की स्टूडेंट ने एंटी-रेप स्टीकर बनाया है।

जरुर पढ़ें:  i phone X का ऐसा दीवाना नहीं देखा होगा, लोग भी हैं हैरान
MIT स्टूडेंट मनीषा मोहन

Massachusetts institute of technology(MIT) की स्टूडेंट मनीषा मोहन ने बलात्कारियों से बचने के लिए एक स्टीकर जैसा दिखने वाला सेंसर बनाया है, जो रेप की घटनाओं को रोकेने में मदद करेगा और आस-पास के लोगों को भी अलर्ट करेगा। ये स्टीकर केवल 20 सेकेंड में जानकारी दे देगा, कि लड़की मुसीबत में है। लड़की को बस करना ये होगा, कि स सेंसर को स्टीकर की तरह कपडों पर लगाना होगा, इसके बाद अगर कोई भी लड़की के कपडे जबरन उतारने की कोशिश करेगा, तभी ये सेंसर लड़की के स्मार्टफोन पर एक मैसेज करेगा। मैसेज का रिप्लाए 30 सैकेंड में ना आने पर फोन जोर से शोर करने लगेगा और लोगों को अलर्ट कर देगा।

जरुर पढ़ें:  ये होंगे देश के अगले राष्ट्रपति, मोदी-शाह ने लगाई मुहर
Massachusetts institute Of Technology

मनीषा के इस अविष्कार से वो बेहद खुश हैं। उन्होंने बताया, कि उन्हें लड़कियों के लिए ऐसा सेंसर बनाने का आइडिया चेन्नई में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते वक्त जो एक्पीरियंस हुआ, उससे आया। मनीषा ने कहा कि लडकियों को घर में रखने की बजाए, उन्हे सुरक्षा प्रदान करनी चाहिए। जिससे स्कूल की बच्चियां, छोटी लड़कियां और विंकलाग लड़कियों को रेप से बचने में मदद मिलेगी। मनीषा ने कहा…

‘हमें बॉडीगार्ड की ज़रुरत नहीं है, मुझे लगता है, कि हमारे पास खुद की सुरक्षा की पावर होनी चाहिए ‘

MIT स्टूडेंट मनीषा मोहन

आपको बता दें, कि सेंसर में लगा ब्युटूथ स्मार्टफोन एप से कनेक्ट होगा। इमसे में दो सेंसर दो मोड में काम करेेंगे, एक पैसिव मोड जिसमें ये मैनुअली काम करता है, यानी किसी भी खतरे का अंदाजा होने पर लड़की इसका बटन दबाकर आसपास के लोगों को अलर्ट कर सकती है। लड़की के बटन दबाते ही तेज अलार्म बजने लगेगा या किसी को कॉल भी लग सकता है। दूसरा, एक्टिव मोड पर जब सेंसर होगा, तो बाहरी सिग्नल के ज़रिए सेंसर खतरे का अंदाजा लगा लेगा है। इससे लड़की अपनी सेफ्टी खुद कर पाएगी और अपने साथ घट रही घटना कू दूसरो का जोनकारी दे पाएगी।

ट को सि

Loading...