संस्कृति, रिती-रिवाजों से बने भारत देश में शुरु से ही लड़कियों के लिए हर तरह के अच्छे-बुरे नियम-कानून बनाएं गए है। जिसमें सबसे कडे नियम लड़कियों उस वक्त निभाने के लिए कहा जाता है, जब महिलाएं अपने पीरियड डेज से गुजरती है। उनके लिए एक नहीं, बल्कि सौ तरह के नियम लागू किए जाते है। लेकिन अब इसके प्रति भी लोग जागरुक बनते जा रहे है। जिसकी शुरुआत अक्षय कुमार की फिल्म पैडमैन कर रही है। जिसके बाद पीरियड्स पर लोगों की छोटी सोच के लिए कई तरह-तरह अभियान चलाएं जा रहे है। वही, एक मॉडल ने अपने फेस पर पीरियड ब्लड लगाकर सोशल मीडिया पर फोटो अपलोड़ की हैं।

जरुर पढ़ें:  भिक्षा मांगकर भरते हैं दूसरों का पेट, बच जाए तो खुद पाते हैं प्रसाद
Akshay kumar Film ‘Padman’

हाल ही में ग्वालियर में लड़कियों ने पीरियड्स के दिनों में यूज होने वाले सैनेटरी नैपकिन को लेकर एक अभियान चलाया था, जिसमें उनका कहना था, कि महिलाओं के लिए नैपकिन बेहद ज़रुरी होते है। और इसको जीएसटी के दायरे में रख कर सरकार ने गलत फैसला लिया है और उस पर 12% जीएसटी लगाकर महिलाओं को इसे खरीदने पर मुश्किले खड़ी कर दी है। जिसके बाद महिलाओं ने पैड्स पर पीएम को संदेश लिखकर भेजे। लेकिन इसी के साथ अब एक मॉडल ने भी पीरियड्स बल्ड को अपने फेस पर लगाकर एक अनोखे तरीके से लोगों को संदेश दिया है।

जरुर पढ़ें:  दिल्ली में लगातार पेट्रोल के दामों में गिरावट, जानें नई कीमत
Message on Pad

ऑस्ट्रेलिया की पूर्व हेयर ड्रेसल याजमिना जेड ने सोशल मीडिया पर एक ऐसी तस्वीर शेयर की है। जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनकी काफी आलोचना की जा रही है। लेकिन मॉडल की ऐसी फोटो पोस्ट करने के पिछे का विषय बेहद ही खास है। दरअसल, मॉडल ने अपने फेस पर हर महिने होने वाले पीरियड ब्लड को लगाया है। जिसे दिखाकर वो सबको ये मैसेज दे रही है। कि मासिक खून भी आम खूब की तरह होता है। जो शरीर में कट लग जाने पर निकलता है। ठीक उसी तरह ये ब्लड होता है। इसलिए इसे गंदा या अशुद्ध ना समझे।

जरुर पढ़ें:  Wow- गूगल की जॉब को लात मारकर समोसा बेच रहा है ये लड़का
Australian Model

मॉडल की इस तरह पोटो अपलोड़ करने के बाद लोगों में काफी आक्रोश है। क्योकि लोगों का कहना है, कि ये सिर्फ एक प्बलिसिटी स्टंट के लिए किया जा रहा है। लेकिन बात जो भी हो, ये सच है कि इस तरह से लोगों की समझ में ये डालना कि पीरियड्स में निकलने वाला ब्लड अशुद्ध नही होता है। ये वाकई एक नई सोच को जन्म दे रही है।

Loading...