मोदी जी कहते तो हैं मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है लेकिन ऐसा होते हुए दिख नहीं रहा. जी हाँ पहले भी दलितों को अछूत मन जाता था और आज भी. आज टेक्नोलॉजी आगे बढ़ रही है. लोग और पढ़ लिख रहे हैं लेकिन सोच वहीं के वहीं है.


जी हाँ उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां भोजपुर में दलितों ने प्रशासन से शिकायत की है कि मुसलमानों के सलमानी समुदाय ने दलितों के बाल काटने और उनकी दाढ़ी बनाने से मना कर दिया है.
बता दें मुसलमानों के सलमानी समुदाय, जिन्हें पहले ‘हज्जाम’ के तौर पर जाना जाता था, ने दलितों के बाल काटने और उनकी दाढ़ी बनाने से मना कर दिया है.

पीपलसाना गांव के दलितों ने एसएसपी मुरादाबाद को सौंपे एक पत्र में कहा है कि सलमानी समुदाय उन्हें अछूत मानता है. इस मामले में शनिवार को दलित महेश चंद्र ने रिपोर्ट दर्ज कराई है. पुलिस ने तीन लोगों को नामजद बनाया है और बाल न काटने के मामले में एससी-एसटी एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की है. तीन लोगों-रियाज, इशहाक और जाहिद को नामजद किया है.

जरुर पढ़ें:  Aadhaar पर सुप्रीम कोर्ट के 4 बड़े फैसले, इनका आप पर होगा ये असर

इस मामले में 45 साल के महेश चंद्र ने शिकायत दर्ज कराई है. उन्होंने बताया कि मैं जाति पर आधारित भेदभाव रोकना चाहते हूं. ये कई साल से हो रहा है, लेकिन अब मैंने आवाज उठाने का फैसला किया है.

बता दें मामले की जांच डीएसपी विशाल यादव कर रहे हैं. विशाल यादव ने कहा, ‘जांच में पता चला है कि दोनों समुदाय के बीच कुछ दिन पहले कुछ घटनाएं हुई थीं जिसके बाद नाई समुदाय ने दूसरे समुदाय के लोगों के बाल काटने बंद कर दिए. अगर किसी प्रकार का भेदभाव किया गया है तो इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.’

जरुर पढ़ें:  दुकानदारों को मिलेगी पेंशन, कहां और कैसे करें अप्लाई,पढ़िए खबर

साथ ही गांव के दलित राकेश कुमार ने कहा, “छुआछूत को बढ़ावा देने वाली ऐसी बातें दशकों से होती आ रही हैं लेकिन अब हमने इसके खिलाफ आवाज उठाने का फैसला कर लिया है.” दलित समुदाय के एक और सदस्य ने कहा, ‘कोई हमारा बाल काटने को तैयार नहीं है. प्रशासन ने भरोसा दिलाया है कि मामला सुलझा लिया जाएगा लेकिन दुकानें पिछले तीन दिनों से बंद हैं.’

साथ ही राकेश ने ये भी कहाँ कि उसके पिता और पूर्वजों को बाल कटवाने के लिए भोजपुर या शहर जाना पड़ता था, “क्योंकि सलमानी समुदाय हमें छूने से परहेज करता है.” राकेश ने आगे कहा, “समय बदल चुका है और हम इसके खिलाफ अपनी आवाज उठाएंगे.” इस बीच, एसएसपी से की गई शिकायत के विरोध में सलमानी समुदाय ने शुक्रवार को अपनी दुकानें बंद रखीं. मुरादाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित पाठक ने कहा कि उन्हें शिकायत मिली है और उन्होंने मामले की जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा, “अगर आरोप सही पाए गए तो हम कठोर कदम उठाएंगे.”

जरुर पढ़ें:  अब जगन्नाथ मंदिर में पान-तंबाकू बैन, नियम तोड़ने पर 500 रुपये का जुर्माना
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here