एक मां के लिए घर में सबसे लाडला उसका बेटा ही होता है, बेटे में कितनी ही बुरी आदतें क्यों ना हो, लेकिन मां का दिल फिर भी अपने बेटे के लिए वैसे ही रहता है, जैसे उसके लिए वो आज भी वही नन्हा बेटा हो, जो कभी उसकी उंगली पकड़कर चला करता था। लेकिन एक मां वो थी, जिसने अपने बेटे की एक गलती को नहीं बक्शा था और अपने ही हाथों से गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी। जिसे पूरा बॉलीवुड ‘मदर इंडिया’ के नाम से जानता है, जो फिल्म सभी भारतीय महिलाओं के लिए एक प्रेरणा बनी थी। लेकिन अब एक और ‘मदर इंडिया’ सामने आई हैं, जो किसी फिल्म की नहीं बल्कि रीयल लाइफ की है, जिसने अपने बेटे को जान से मारने की सुपारी देकर उसकी हत्या करा दी।

जरुर पढ़ें:  ग़जब- अब पेट्रोल-डीजल से नहीं, कॉफी से चलेगी बस
Mother India Movie gun scene

ये मां अपने बेटे की गलत हरकतों से इतनी परेशान हो गई कि, उसने अपने ही सगे बेटे की ही सुपारी देकर उसकी हत्या करा दी। इसके आरोप में पुलिस ने मां समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में मां ने खुद इस बात का कबूल किया है, कि उसने अपने बेटे की गलत आदतों की वजह से उसकी हत्या करवाई है। बता दें, मामला 20 अगस्त का है। जहां रजनी नाम की मां ने अपने 21 साल बेटे की सुपारी देकर उसकी हत्या करवा दी।

Mother Rajni Arrested

मामला मायानगरी मुंबई का है। पुलिस के मुताबिक 21 साल के रामचरण रामदास द्विवेदी ड्रग्स और सेक्स की बुरी आदतों के शिकंजे में फंसा हुआ था, उसने एक नहीं बल्कि दर्जनों महिलाओं के साथ दुष्कर्म किया था, इतना ही नहीं, उसने अपनी मां और सौतेली मां के साथ भी हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थी। अपने बेटे की इन्ही बुरी आदतों से तंग आकर मां ने अपने अपने बड़े बेटे सीताराम के मिलकर रामचरण को मारने की साजिश रची, जिस साजिश में रामचरण दास भगवान को प्यारा हो गया और मां बेटे को मरवाकर आज की मदर इंडिया बन गई, जिसे अपने बेटे की बुरी हरकतें ना देखी गई और अपनी ममता का गला घोंटकर अपने बेटे को मौत के घाट उतार दिया।

जरुर पढ़ें:  2 रुपए के सिक्के ने एक आदमी को बनाया अमीर, आप भी बन सकते हैं लखपति
Demo- Auto Rikshaw

बता दें, मां और भाई ने मिलकर केशव मिस्त्री और राकेश यादव को 50 हज़ार रुपए में रामचरण को मारने की सुपारी दी, जिसके बाद केशव और राकेश ने मिलकर रामचरण को बहलाफुसलाकर भाइन्दर से ऑटो में बिठा लिया और फिर वहां से उसे वसई ले गए, इस घटना को रात के करीब दो बजे अंजाम दिया गया था, इसके बाद वसई पहुंचकर केशव और यादव ने उसे नीचे उतारा और कोयता से उसकी हत्या कर दी और पुलिस से बचने के लिए रामचरण के शव को पास की खदान में फेंक दिया और वहां से फरार हो गए। फिलाहल, पुलिस ने मां और भाई समेत केशव और यादव को भी गिरफ्तार कर लिया है,चारों को कोर्ट में पेशी के बाद अदालत ने आरोपियों को रिमांड पर भेज दिया है।

Loading...