60 के दशक में आई बॉलीवुड की शानदार फिल्म ‘मदर इंडिया’ शायद ही आपने देेखी हो, इस फिल्म में मां की हिम्मत और उसके हौसले को दिखाया गया है। फिल्म में ये दिखाया गया है, कि मां अपने परिवार और बच्चों के लिए अपनी इज़्जत तक को दांव पर लगा सकती हैं।

मां को भगवान को दूसरा रूप कहा गया है, मां को स्वर्ग से भी ऊंचा दर्जा दिया गया है। ये भी कहा गया है, कि बेटा कपूत हो सकता है, लेकिन मां कभी कुमाता नहीं हो सकती। लेकिन दुनिया के एक कोने से जो खबर आई है, उसने इन सारी मान्यताओं, यकीन और कहावतों को पलट कर रख दिया है। सवाल ये उठने लगे हैं, कि क्या आज के दौर में मां ऐसी भी हो सकती है, जो अपने बेटे की खुशी ही छीन ले। अपनी हवस मिटाने के लिए अपने ही बेटे को इस्तेमाल करे।

जरुर पढ़ें:  Amazing News- स्वीमिंग पूल में फंसी थीं महिला, फेसबुक ने बचाई जान

येे बातें सुनकर आप ज़रुर चौंक गए होंगे। बच्चों को हर मुसीबत से बचाने वाली मां अपने बेटे के साथ ऐसा कैसे कर सकती है ? लेकिन ये सच है, वो बेटा अपनी मां को मम्मी कहने से भी डरने लगा हैं। आपको बता दें, कि ये मामला विदेश का है, जहां 41 साल की एक महिला लिंडसे टेलर ने अपने 15 साल के बेटे के साथ सेक्स करने की कोशिश की है। इस अपराध के लिए टेलर को दो साल की जेल की सजा भी हुई है।

लिंडसे टेलर

दरसअल, दोनो मां बेटे रात को वोडका पीने के साथ ही साथ में स्मोकिंग भी कर रहे थे, दोनों ही बहुत ज़्यादा नशे में थे। जिस वजह से टेलर खुद को रोक नहीं पाई और अपने बेटे के साथ ही वो ज़बरदस्ती सेक्स करने लगी। मां को इस रूप में देखकर बेटा पहले तो चौंका। उसने मां को रोकने की कोशिश भी की, लेकिन मां न सिर्फ शराब के नशे में थी, बल्कि उसके सिर सेक्स का नशा भी चढ़ गया था और वो इतना भयंकर था, कि वो अपने खून को भी नहीं पहचान पा रही थी।  

जरुर पढ़ें:  चौंका देने वाली खबर, लड़कियों ने किया लडके का गैंगरेप

मां की इस हरकत को बेटा रोकता रहा, लेकिन टेलर नहीं रुकी और वो कर बैठी जिसका आज उसे पछतावा हो रहा है। अपनी मां की हरकत में शरीक बेटे को अपने किए पर जब घिन आने लगी, तो वो कुछ दिन के लिए घर से भाग गया, और उसने आखिर में पुलिस थाने जाकर अपनी ही मां के खिलाफ इस हरकत के लिए केस दर्ज करा दिया। टेलर को कोर्ट ने इस जघन्य अपराध के लिए दो साल की सजा सुनाई है। टेलर सजा काट लेने का बाद फिर इस समाज का हिस्सा बन जाएगी लेकिन उसने जो किया है, वो इस समाज के साथ ही उस शब्द, जिसे स्वर्ग से बड़ा दर्जा दिया गया है उसके साथ भी विश्वासघात से कम नहीं है।