मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने 15 साल बाद सत्ता में वापसी कर ली है. और कांग्रेस की तरफ से प्रदेश का सीएम कमलनाथ को बनाया गया है. साथ ही सत्ता से 15 साल दूर रहीं कांग्रेस ने इस बार जीत के लिए चुनाव प्रचार में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी.

क्योंकि पार्टी ने अपने घोषणापत्र में इस बार कई ऐसे लुभावने वादे किए हैं जो कांग्रेस पार्टी के लिए जीत की सफलता का मूलमंत्र साबित हुए. इन सब बातो को जिक्र इसलिए कर रहे हैं क्यों कि आपने एक बात जरूर देखी होगी कि जो पार्टी जीतकर आती है उसके मुखिया को इतना सत्ता का नशा नही चढ़ता है.

जरुर पढ़ें:  बीवी के साथ शॉपिंग जाने वाले पतियों का दर्द इस मॉल ने समझा, किए ये लाजवाब इंतज़ाम

जितना कि पार्टी के कार्यकर्ताओं और सहायकों को चढ़ता है. वो इसलिए क्यों मध्य प्रदेश में बड़ी गहमा गहमी के बाद कांग्रेस सत्ता में आई है. और अभी से ही पार्टी के कुछ सहायकों ने अपनी दबंगई दिखानी शुरू कर दी है. तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि प्रदेश कांग्रेस सचिव विवेक खंडेलवाल अपने सहयोगीयों के साथ देवी अहिल्या विश्व विद्यालय के कुलपति को सबसे पहले सीएम कमलनाथ और संजय गांधी की तस्वीर भेंट करते हैं. लेकिन तस्वीर भेंट करने के बाद जो उन्होनें काम किया उसे देखकर आप भी हैरान रह जायेंगे.

दरअसल कांग्रेस के प्रदेश सचिव विश्वविघालय के कुलपति को मुख्यमंत्री कमलनाथ और संजय गांधी तस्वीरे भेंट करने के बाद उनकी इन तस्वीरों को कुलपति कक्ष में लगाने के लिए अड़ गए. हद तो तब पार हो गई जब उन्होनें खुद सौफे पर चढ़कर ये दोनों तस्वीरें पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पास लगा डालीं.

जरुर पढ़ें:  सऊदी सरकार ने मानी पत्रकार की हत्या की बात, दूतावास में हुई पत्रकार की मौत

सचिव जी ये तो ठीक है कि मुख्यमंत्री होने के नाते आपने यूनिवर्सिटी में कमलनाथ की फोटो लगाने की मांग की लेकिन जिस तरह से आपने दबंगई में तस्वीरें कुलपति कक्ष में लगाई क्या ये जायज है. और हां कहीं न हीं इस तरह का काम करके मुख्यमंत्री की छवि को धूमिल नहीं किया जा रहा है. और अब देखना ये होगा कि इस खबर को देखकर सीएम कमलनाथ इनके खिलाफ क्या एक्शन लेते हैं. आपको हमारी ये खबर कैसी लगी कमेंटबॉक्स में जरूर बताए.

Loading...