उत्तर प्रदेश की राजनीति में सिर्फ दो ही नाम सबसे ज्यादा मशहूर हैं, पहला हैं मायावती और दूसरा मुलायम सिंह। बीते दिनों मुलायम सिंह का नया चेहरा जनता के सामने आया जिसमें मुलायम का प्यार और गुस्सा देखने को मिला। मुलायम के इस रूप को देखकर पूरा मिडिया जगत दंग रह गया।

BIRTHDAY PICS

समाजवादी पार्टी के मुख्यालय में जब मुलायम सिंह का 79 वां जन्मदिन मनाया गया तो पूरे समाजवादी पार्टी के सदस्य वहां मौजूद थे। शुरू में तो मुलायम ने सभी सदस्यों को चुनाव में मिली हार को लेकर जमकर फटकार लगाई पर बाद में उन्होंने अपने बेटे अखिलेश को आशीर्वाद देकर यह कहा कि “अखिलेश उनका बेटा पहले हैं और नेता बाद में”.

जरुर पढ़ें:  जब लड़की को पता चला होने वाला पति है ‘मोदी भक्त’ तो तोड़ दी शादी
MULAYAM AUR AKHILESH

मुलायम के जन्मदिन के मौके पर उनके भाई शिवपाल यादव नदारद रहे, लेकिन अखिलेश ने मुलायम के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया। जन्मदिन के इस मौके पर 79 किलो का केक भी कटा गया। वाराणसी से आए पद्मभूषण पं. छन्नू लाल मिश्र ने सोहर गाकर माहौल को सांस्कृतिक बनाया। बाद में उन्होंने पार्टी के सदस्यों की जमकर क्लास लगाई। उन्होंने कहा कि “5 साल सत्ता में रहने के बाद भी इतनी कम सीटें बहुत शर्मनाक बात है, पार्टी में बड़े पद पर बैठे दो नेता तो अपने पोलिंग बूथ पर सपा को जिता भी नहीं सके। उनके बूथ पर सपा को जितने वोट मिले, उससे अधिक वोट उनके घर में ही थे”।

जरुर पढ़ें:  खूबसूरत बीवी के धोखे को सह नहीं पाया फौजी, सदमें में उठा लिया ये बड़ा कदम
MULAYAM SINGH

मुलायम ने कहा- कि “पार्टी के इस हाल की जिम्मेदारी कौन लेगा? अयोध्या में कारसेवकों पर गोली चलवाने के बाद भी हमारी पार्टी के 105 विधायक जीतकर आए थे। लोग मुझे देखकर चिल्लाते थे कि हिंदुओं का हत्यारा आ गया है। फिर भी हम जीते”। व्यथित मुलायम ने कहा, कि जब हमने समाजवादी पार्टी बनाई थी तो अखबारों में लिखा गया था कि दो-तीन जिलों की पार्टी बनकर रह जाएगी, लेकिन 11 महीने के बाद हमारी सरकार बनी। उस समय के कार्यकर्ता और युवा कैसे थे, पता कीजिए?

DEMO PIC

पार्टी के पदाधिकारियों को डांट लगाने के बाद मुलायम ने अपनी भावनाओं को काबू करते हुए कहा, कि “अखिलेश ने अपनी सरकार काफी अच्छी तरह चलायी है, अखिलेश की सरकार ने उत्तर प्रदेश की जनता से बादे किये थे, उन्हें पूरा भी किया। योगी सरकार को उन्होंने ये कहते हुए लताड़ा कि “यह सरकार झूठ के दम पर आई है और ये समाजवादी विकास की पक्षधर नहीं है।

Loading...