प्रणब दादा के बाद देश का अगला राष्ट्रपति कौन होगा ? इन दिनों गूगल पर यही सर्च हो रहा है। तमाम मीडिया रिपोर्ट्स दावा कर रही थीं, कि ये होगा, वो होगा। जिनकी कोई उम्मीद नहीं थी, ऐसे लोगों के भी नाम उछालकर उनकी तमन्नाओं को परवान चढ़ा दिया गया। पचासों नाम सामने आए, लेकिन सबको धता बताते हुए बीजेपी ने एक ऐसे नाम को सबके सामने लाकर रख दिया, जिनके बारे में ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं है।

राम नाथ कोविंद, ये नाम सुना है कभी ? बिहार के गवर्नर हैं कोविंद साहब। यूपी के कानपुर से ताल्लुक रखते हैं। अनुसूचित जाति में आने वाले कोली समाज से आते हैं। दो बार राज्यसभा सांसद भी रह चुके हैं और पार्टी के पुराने दलित चेहरों में से एक हैं।

जरुर पढ़ें:  बीवी ने ठीक से नहीं परोसा खाना, तो पति ने दी ये खौफनाक सज़ा
रामनाथ कोविंद

ये रही कोविंद साहब की पूरी हिस्ट्री

कानपुर देहात के परौख गांव में 1945 में राम नाथ कोविंद साहब का जन्म हुआ था। डीएवी से बीकॉम और डीएवी लॉ कॉलेज से ग्रेजुएशन के बाद कोविंद ने IAS की परीक्षा दी, जिसमें वे तीसरी कोशिश में कामयाब भी हुए, लेकिन अलायड सर्विस में चयन होने की वजह से उन्होंने इस नौकरी को ठुकरा दिया, और बतौर सुप्रीम कोर्ट के वकील अपना करियर शुरू किया।

रामनाथ कोविंद

1977 में आपातकाल हटने के बाद जब जनता पार्टी सरकार में मोरार जी देसाई प्रधानमंत्री बने तो कोविंद को उनका निजी सचिव बनाया गया था। यही से कोविंद बीजेपी के संपर्क में आए।

जरुर पढ़ें:  इंडियन रेलवे का यह कारनामा सुनकर ,आप भी कहोगे "वाह रेलवे वाह"

कभी चुनाव नहीं जीत पाए कोविंद

रामनाथ कोविंद जमीनी तौर पर अपनी सियासी सूजबूझ को कभी ज़मीन पर साबित नहीं कर पाए। 1990 में राममंदिर लहर में भी कोविंद चुनाव नहीं जीत पाए थे। बीजेपी ने उन्हें घाटमपुर से लोकसभा का टिकट दिया था, हालांकि दलित समुदाय को साधने के लिए तीन साल बाद ही पार्टी ने उन्हें राज्यसभा भेज दिया। 2006 में जब कोविंद का राज्यसभा सांसद के तौर पर दूसरा कार्यकाल खत्म हुआ तो, पार्टी ने उन्हें 2007 में भोगनीपुर विधानसभा से चुनाव लड़ाया, लेकिन कोविंद की यहां जमानत जब्त हो गई। बताते हैं कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कोविंद ने उरई-जालौन से चुनाव लड़ने की मंशा जाहिर की थी, लेकिन पार्टी ने उसे ठुकरा दिया था।

जरुर पढ़ें:  दुनिया की तीसरे सबसे भरोसेमंद सरकार हैं मोदी सरकार, वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम की रिपोर्ट

 

Loading...