गुरू गोविंद दोनों खड़े काके लागू पाय, बलिहारी गुरू आपने गोविंद दियो बताय….ये चंद लाइनें हमेशा से ये हमें बताती रही है, कि गुरू का दर्जा ईश्वर से भी ऊंचा है। क्योंकि गुरू ही हो शख्स हैं, जो ईश्वर के करीब जाने का मार्ग हमें दिखाता है। गुरू को समाज इसीलिए इज्जत देता है, उसे सम्मान की नज़र से देखता है। लेकिन इन दिनों जो घटनाएं सामने आ रही है, वो इस पद और सम्मान दोनों का शर्मसार कर रही है। मामला पंजाब के पटियाला से सामने आया है, जहां एक प्रिंसिपल पर 12 वीं के छात्र के साथ जबरदस्ती संबंध बनाने का आरोप लगा है।

जरुर पढ़ें:  पेट्रोल पंप पर डीजल और पेट्रोल के अलावा ये होती है फ्री सेवाएं
Demo pic

घर के बाद बच्चे अगर और कहीं सबसे ज्यादा समय बिताते हैं, तो वो स्कूल हैं। जहां बच्चे संस्कारित होते हैं और घऱ से ज्यादा बच्चों के निर्माण में इन स्कूलों का ही योगदान होता है। लेकिन जब स्कूल में शिक्षक ही बच्चों की कुसंस्कारित करे तो क्या? पंजाब के पटियाला शहर से जो ख़बर आई है, उसने हर मां-बाप को स्कूल और वहां के शिक्षकों पर शक करने के लिए मजबूर कर दिया है।

Demo pic

दरअसल पंजाब के पटियाला के सरकारी स्कूल में 12वीं के एक छात्र ने अपनी ही प्रिंसिपल पर दबाव बनाकर शारीरिक संबंध बनाने का आरोप लगाया है। छात्र का आरोप है, कि प्रिंसिपल उसके साथ जबरदस्ती सबंध बनाती थीं और उसे ब्लैकमेल किया करती थी। अब मामला पुलिस के पास पहुंचा तो प्रिंसिपल फरार हो गई हैं। छात्र का आरोप है, प्रिंसिपल सेक्स करने के लिए मजबूर करती थीं और ऐसा करने से मना करने पर स्कूल से उसका नाम कट कराने की धमकी देती थीं। प्रिसिंपल ने छात्र के साथ संबंध बनाने की कोशिश भी की लेकिन छात्र ने इससे इंकार कर दिया।

जरुर पढ़ें:  फिल्म का हीरो नही रियल लाइफ में IPS हैं ये शख्स, सोशल मीडिया पर मचा रखी है धूम
Demo pic

मामले का खुलासा तब हुआ, जब पीडित लड़के ने प्रिंसिपल की इस डिमांड की जानकारी परिजनों को दे दी। बात घरवालों तक पहुंचते ही, परिवार वालों ने प्रिंसिपल की शिकायत पुलिस में कर दी। मामला पुलिस के पास पंहुचा तो, शहर में और स्कूल प्रबंधन में हड़कंप मच गया। जानकारी लगते ही स्कूल की प्रिंसिपल फरार हो गई है। अब पुलिस के साथ-साथ इस मामले की जांच में राज्य का शिक्षा-विभाग भी जुट गया है। मामले की रिपोर्ट राज्य शिक्षा सचिव को भेज दी गई है, जिसमें प्रिंसिपल की काली करतूतों का चिट्ठा हैं। अब पुलिस दूसरे छात्रों से पूछताछ कर ये पता करने में जुटी है, कि प्रिंसिपल ने कई और छात्रों को तो अपनी हवस का शिकार नहीं बनाया। वहीं परिजनों ने मामला शिक्षा विभाग में पहुंचते ही पुलिस कंप्लेट वापस ले ली है।