लड़कियों के लिए आज से नहीं, कई सालों से ऐसे नियम बनाएं गए हुए।जिन्हे आजतक खत्म नहीं किया गया है। समाज में आज भी कई ऐसे देश, शहर, इलाके है। जहां लड़कियों को अपनी पवित्र होने का सबूत देना होता है।रामायण में सीता माता को भी लकेंश की कैद से बाहर आकर अपने पवित्र होने के लिए अग्निपरिक्षा देनी पडी थी।इसी तरह आज भी कई लड़कियां अग्निपरीक्षा की तरह अपनी वर्जिनिटी का सबूत देती है।जिसे खुद एक अफगानिस्तान की लड़की ने मीडिया को बताया है।

Demo Pic-Afghan Girl Virginity Test

अफगानिस्तान आज भी लड़कियों की अजादी को लेकर काफी क्रूर है। जहां लड़कियों को कई तरह से प्रताडित किया जाता है। ऐसा ही एक अफगानी लड़की नेदा के साथ हुआ है। जिसने अपने साथ हुई प्रताडना को सोशल मीडिया पर शेयर किया है। नेदा का कहना है कि, पुरुषों के साथ घर लेट आने पर, उसे वर्जिनिटा का टेस्ट देना पड़ा। जो कि नेदा को बेहद शर्मासार कर देना वाला था।

जरुर पढ़ें:  क्या आप भी सफर में ऐसे बैठते हैं? तो सुधार ले अपनी हरकत

महिलाओं की मर्जी के बिना होता है वर्जिनिटी टेस्ट

नेदा ने बताया कि, एक रात वो थिएटर से लौट रही थी और घर पहुंचने में देर हो गई। जिसके बाद उसने पुरुष दोस्तों से लिफ्ट ले ली लेकिन, इसके बाद जो हुआ उसने नेदा की जिंदगी बदल दी और उसके सर पर मुसीबतों का पहाड खडा हो गया। बता दें, नेदा बामियान की रहने वाली है। जिस पर शादी से पहले सेक्स करने का आरोप लगाया गया था और उसका वर्जिनिटी टेस्ट भी कराया गया।

Demo Pic- Afghan Girls

नेदा का टेस्ट दो डॉक्टरों ने किया। जिसमें नेदा वर्जिन ही साबित हुई। लेकिन नेदा के साथ की गई इस हरकत का उसकी लाइफ पर बुरा असर पडा। जिसके बाद उसे कोर्ट तक के चक्कर काटने पड गए। आपको बता दें, कि ये बात 2 साल पहले की है लेकिन नेदा आज भी अपने साथ हुई इस घटना से बाहर नहीं आ पाई है। वही, उसका कोर्ट से जुडा मामला अब भी चल रहा है। एक रिपोर्ट की मुताबिक, अफागानिस्तान में महिलाओं को इसी तरह से प्रताडित किया जाता है। महिलाओं की मर्जी के बिना ही उनका वर्जिनिटी टेस्ट कराया जाता है।

जरुर पढ़ें:  जमीन के अंदर 5 साल तक बिना पानी जिंदा रहती है ये मछली

अफगानिस्तान में महिला प्रताडना के मामले

  • अफगान में कई बार महिलाओं के शादी से पहले रिश्ते होेने के आरोप में ऑनर किलिंग के मामले सामने आए है।
  • लड़कियों को वर्जिनिटी के मामले में जेल जाना पड़ता है
  • कोर्ट वर्जिनिटी टेस्ट का आदेश देता है हालांकि, मानवाधिकार आयोग ऐसे टेस्ट को गलत बताता है।