असम के वित्तमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने बुधवार को विधानसभा में वित्त वर्ष 2019-20 का बजट पेश किया जिसमें दुल्हनों को एक तोला सोना यानी कि 10 ग्राम सोना देने की घोषणा की. बता दें यह सोना उन दुल्हनों को दिया जाएगा जो ऐसे परिवारों से आती हैं जिनकी सालाना आय पांच लाख रुपए से कम है. साथ ही गरीबों को एक रुपये किलो चावल देने का ऐलाना भी किया. हेमंत सरमा ने 1,193.04 करोड़ रुपए का घाटा बजट पेश किया.

बजट में एक नई योजना शुरू करने की घोषणा की जिसके तहत 45 साल तक की महिला के पति के निधन होने पर उसे तत्काल परिवार सहायता के रूप में 25,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे. इसके अलावा उसे 60 साल की आयु तक प्रति माह 250 रुपये की पेंशन दी जाएगी. 60 साल के बाद उसे वृद्धावस्था पेंशन का लाभ मिलेगा.

जरुर पढ़ें:  अब आएगा बीस रुपये का नए नोट, होंगे ऐसे फीचर!

 

 

बजट में वित्त मंत्री ने छात्रों को कई तोहफे दिए. इसमें सबसे पहले आर्ट्स, साइंस और कॉमर्स में डिग्री स्तर तक की पढ़ाई के लिए छात्रों को फ्री में किताबें देने की घोषणा की. सरकारी कॉलेजों व विश्वविद्यालयों के छात्रावासों में रहने वाले प्रत्येक छात्र को उनकी आर्थिक स्थिति पर विचार किए बगैर उनके मेस बिल में वर्ष में 10 महीने तक हर महीने 700 रुपये का अनुदान प्रदान किया जाएगा.

सरकार ने 12वीं कक्षा में फर्स्ट डिवीजन में पास हेने वाली सभी छात्राओं को बैटरी ऑपरेटिड इलेक्ट्रिक बाइक देने का भी ऐलान किया. सरकार ने अल्पसंख्यक समुदायों की छात्राओं को स्कॉलरशिप देने के लिए 200 करोड़ रुपए का आवंटन किया है.

जरुर पढ़ें:  देखिए, कांग्रेस की जीत के जश्न में नरेन्द्र मोदी के ठुमके!

बजट में सस्ती पोषण व आहार सहायता योजना (एएनएनए) की घोषणा की गई है जिसके तहत सरकार ने 53 लाख लाभार्थी परिवारों को खाद्य सुरक्षा के तहत 3 रुपये के बदले एक रुपये प्रति किलो चावल मुहैया करवाने का फैसला किया है. इसके अलावा, सरकार ने चाय बगान क्षेत्र के 4 लाख परिवारों को मुफ्त में चावल प्रदान करने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि चाय बगान श्रमिकों के परिवारों को 2 रुपये किलो चीनी दी जाएगी.

Loading...