पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब, खेलोगे-कूदोगे तो होंगे खराब….अपने बड़े बुजुर्गों से ये बातें आपने भी सुनी होगी। हम तो अपने दौर में ये खूब सुना करते थे। लेकिन कामयाबी के लिए सिर्फ औपराचिक शिक्षा कोई मायने नहीं रखती है। इसकी कई मिसालें इस दुनिया में देखने को मिल जाएगी। ऐसी ही कामयाबी की एक कहानी ओडिशा के रितेश की है। स्कूल से ड्रॉप आउट रितेश ने सिम कार्ड बेचे, होटलों में हाउस कीपिंग की और 19 साल की उम्र में खुद की कंपनी शुरू कर 22 साल वो अरबपति बन गया।

Ritesh Agarwal CEO of OYO Rooms

हम बात कर रहे हैं, रितेश अग्रवाल की। रितेश OYO रूम के फाउंडर और CEO हैं। वही OYO Room जो आपको आपके बजट में आपकी टूरिस्ट डेस्टीनेशन पर आपको ऑनलाइन रूम्स मुहैया करवाता है। रितेश बचपन से ही कुछ अलग करना चाहता था। जिस उम्र में बच्चे अपनी करियर और पढ़ाई के बीच झूलते रहते हैं, उस उम्र में रितेश ने एक कंपनी बना डाली थी। रितेश बिज़नेस क्लास फैमिली में पैदा हुए थे। ओडिसा के एक छोटे से कस्बे से उन्होंने पढ़ाई पूरी की। पढाई पूरी करने के बाद रितेश इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए राजस्थान के कोटा में गए। वहीं पर उन्हें ये चैन खोलने का आइडिया आया। हालांकि एक टीवी इंटरव्यू में रितेश में बताया था, कि OYO को शुरू करने की प्रेरणा उन्हें तब मिली, जब वे अपने रिश्तेदारों के घर गए तो उन्हें टीवी रिमोट नहीं मिला। रितेश चाहते थे कि टीवी रिमोट पर उनका कंट्रोल हो, लेकिन बच्चे होने की वजह से बड़े लोग अपनी पसंद का सीरियल देखते थे और रितेश की कार्टून देखने की इच्छा अधूरी रह जाती थी।

जरुर पढ़ें:  अरविंद केजरीवाल की राजनीति पर बनी फिल्म, अगले महीने होगी रिलीज़
Ritesh Agarwal

रितेश के दिमाग में तभी ये आइडिया क्लिक हो गया था। रितेश ने बताया था, कि OYO का फुलफॉर्म On Your Own होता है। रितेश ने इस कंपनी को शुरू करने के लिए कंप्यूटर कोडिंग सीखी और साथ ही साथ अलग-अलग जगहों पर घूमने गए। रितेश स्कूल टाइम से ही बड़े नटखट और शरारती थे। वो शैतानियां करने की नई-नई तरकीब निकला करते थे। उनका मानना है, कि इससे वो रोज़ नई-नई बातें सीखा करतें थे। OLA कैब्स के को-फाउंडर भाविश अग्रवाल को रितेश अपना इंस्पिरेशन मानते हैं।

Ritesh Agarwal 

रितेश की इस असाधारण कामयाबी के लिए उनको कई अवार्ड्स भी मिलें हैं। साल 2014 में टाई-लुइस एंट्रेप्रेनरियल अवॉर्ड मिला। 2013 में थिएल फ़ेलोशिप अंडर 20, टाटा फर्स्ट डॉट अवार्ड्स टॉप 50 एन्टप्रेनर्स अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया। 2013 में बिज़नेस इनसाइडर ने उनका नाम 8 हॉटेस्ट टीनऐज स्टार्टअप फाउंडर्स की लिस्ट में शामिल किया। रितेश के नाम के साथ वर्ल्ड यंगेस्ट CEO का भी खिताब जुड़ चूका है।

जरुर पढ़ें:  रेलवे में नौकरी करते हैं, तो फोन से वॉट्सएप्प को डिलीट मार दीजिए
Ritesh Agarwal in 4th Asia Business Responsibility Submitt

रितेश ने अपने कोटा के दिनों में ‘Indian Engineering Colleges: A Complete Encyclopedia of Top 100 Engineering Colleges’ नाम की किताब भी लिखी थी। ये किताब फिल्पकार्ट के ज़रिए लोगों में काफी लोकप्रिय हुई थी।

Book written by Ritesh Agarwal

एक समय ऐसा भी था जब की घर वालों से छुपाकर, बिजनेसमेन बनने के सपने को पूरा करने के लिए रितेश सिम कार्ड बेचा करते थे। लेकिन आज इनके चैन के टाई-अप्स विदेश के बड़े-बड़े कंपनियों के साथ है। बड़ी बड़ी कंपनियां आज OYO  रूम्स के साथ टाई-अप्स करना चाहती हैं। OYO रूम्स ने हाल ही में वाट्सएप, सॉफ्ट बैंक, चाइना लॉजिंग ग्रुप जो की चीन की एक लीडिंग होटलों की चैन है, उनके साथ टाई-अप्स किया है।

जरुर पढ़ें:  गजब- जब छूटे हुए 20 यात्रियों को लेने वापस स्टेशन पर पहुंची मेट्रो ट्रेन
Tie Up with Soft Bank

2016-17 तक 70,000 रूम्स के साथ 200 शहरों में अपना जाल फ़ैलाने के साथ-साथ OYO रूम्स भारत की सबसे बड़ी होटलों की चैन बन चुकी है। ट्रिप-एडवाइजर के मुताबिक इनकी रेटिंग 4.3 है। नॉएडा-बैंगलोर में 100 से भी ज्यादा OYO होटल रूम्स को टॉप-10 की रैंकिंग में रखा गया है। हॉलिडे आई-क्यू ने OYO रूम्स को इंडिया मोस्ट प्रोमिसिंग होटल चैन बताया है।

Loading...