पिछले कई दिनों से हम आधार कार्ड को लेकर बहुत ज्यादा परेशान हैं,किसी भी कार्य के लिए हमें आधार कार्ड की आवश्यकता जरूर पड़ती है| भारतीय सरकार ने आधार को एक बहुत ही अहम् स्थान दे दिया है, एक तरह से हम ये मानते हैं कि आधार हमारी रक्षा और सुरक्षा दोनों है, लेकिन अगर ये कहा जाए कि आजकल आधार ही हमारी जान का दुश्मन बन गया है, तो क्या आप यकीन करेंगे नहीं ना, पर यह पूरी तरह से सच है|

Demo Pic

हमें बीते साल  आधार बनाने वाली अथॉरिटी यूआईडीएआई ने भरोसा दिलवाया था कि, ‘आधार डेटा पूरी तरह से सुरक्षित है और यह डाटा किसी भी तरह से लीक नहीं हो सकता है।’ लेकिन एक अंग्रेजी अखबार द्वारा की गई तहकीकात में यह खुलासा हुआ है कि आपके आधार कार्ड की जानकारी बिल्कुल सुरक्षित नहीं है। इस तहकीकात में पता चला है कि आप मात्र 500 रुपये देकर केवल 10 मिनट के अंदर करोड़ों आधार कार्ड की जानकारी हासिल कर सकते हैं।

जरुर पढ़ें:  सैमसंग गैलेक्सी-8 और गूगल OnePlus 5T में घमासान, जानिए मोबाइल फीचर्स
Demo Pic

दरअसल तहकीकात में एक एजेंट के बारे में पता लगा जिसने अपना परिचय अनिल कुमार के रूप में दिया और उसने एक एक्सेस पोर्टल बनाने को कहा। अनिल ने नाम, ई-मेल और मोबाइल नंबर मांगा जिसके बाद उसने एक नंबर दिया जिस पर पेटीएम के माध्यम से 500 रुपए ट्रांसफर करने को कहा। पैसे मिलने के बाद एजेंट ने मात्र 10 मिनट में एक गेटवे दिया और लॉग-इन पासवर्ड दिया। उसके बाद उन्हें सिर्फ आधार कार्ड का नंबर डालना था और सी भी व्यक्ति के बारे निजी जानकारी आसानी से मिल गई|

Demo Pic

इसके बाद सुनील कुमार से इन आधार कार्ड का प्रिंट करवाने के लिए बोला गया तो उसने पेटीएम के माध्यम से फिर से 300 रुपये लिए और फिर रिमोट से ‘टीम व्यूवर’ के माध्यम से एक तहकीकात करने वाली रिपोर्टर के कंप्यूटर में एक सॉफ्टवेयर इंस्टाल किया और जैसे ही काम खत्म हुआ तो उसने तुरंत सॉफ्टवेयर डिलीट कर दिया। इस सॉफ्टवेर के जरिये भारत के रहने वाले किसी भी व्यक्ति का आधार कार्ड निकाला जा सकता है, चाहे वह फिर प्रधानमंत्री मोदी ही क्यों ना हो

जरुर पढ़ें:  इस शख्स ने रखा था मसूरी नाम, इसलिए हर रोज़ दोपहर को दागी जाती थी तोप
Demo Pic

तहकीकात के मुताबिक यह गिरोह पिछले 6 महीने से सक्रीय है , इनका टारगेट ग्रामीण क्षेत्र के सीधे शधे लोग होते हैं| जैसे ही इस खबर का पता  यूआईडीएआई अधिकारियों को लगा तो उन्होंने इस का पता बेंगलुरु स्थित टेक्नीकल टीम को दिया| आपको बता दें इससे पहले भी आधार कार्ड का डाटा लीक होने की ख़बरें पहले भी काफी सुर्खियाँ बटोर चुकी हैं| अब यह घटना हमें एक बार फिर से आधार कार्ड की आने वाली समस्याओं से आगाह करा रहीं हैं|