भारतीय जनता पार्टी दुबारा सरकार बनने के बाद लगातार तबड़तोड़ फैसले ले रही है. पीएम मोदी ने अपनी नई टीम में हर उस अनुभवी व्यक्ति को जुड़ा जो अपने काम में सर्वपरि है, और कुछ पुरानों को कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. उनमें से एक नाम सुषमा स्वराज का भी है, जो मोदी सरकार के सबसे अनुभवी लोगों की लिस्ट में आती है, लेकिन कारणवंश उन्हें मोदी कैबिनेट का हिस्सा नहीं बनाया गया पर जब बीजेपी नेता डॉ हर्षवर्धन ने ट्वीट कर सुषमा स्वराज को राज्यपाल बनने की बधाई दी तो सब हैरान रह गए.क्योंकि तब तक गृहमंत्रालय या राष्ट्रपति भवन की तरफ से इस संबंध में कोई सूचना नहीं दी गई थी. लेकिन तुंरत बाद ही रिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज ने उन अटकलों को खारिज कर दिया.

जरुर पढ़ें:  सर्दियों में रामबाण औषधी की तरह है नारियल तेल, ये रहे चौंकाने वाले फायदे

बीजेपी के वरिष्ठ नेता हर्षवर्धन ने ट्वीट कर लिखा कि, ”बीजेपी की वरिष्ठ नेता और मेरी दीदी, पूर्व विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज जी को आंध्र प्रदेश का राज्यपाल बनने पर बहुत बधाई व शुभकामनाएं. सभी क्षेत्रों में आपके लंबे अनुभव से प्रदेश की जनता लाभान्वित होगी.”

इसके बाद से ही सुषमा स्वराज ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘मुझे विदेश मंत्रालय का कार्यभार छोड़ने के लिए भारत के उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू जी की ओर से बुलाया गया था. यह ट्विटर के लिए मुझे आंध्र प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त करने के लिए काफी था.” गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने भी इन खबरों को खारिज कर दिया ।

आपको बता दें कि सुषमा स्वराज ने इस बार चुनाव से पहले ही ऐलान किया था कि वे लोकसभा चुनाव में नहीं लड़ेंगी. चुनाव में बीजेपी की जीत के बाद राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा थी कि सुषमा स्वराज को राज्यसभा भेजकर मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में भी मंत्री पद दिया जा सकता है. लेकिन सुषमा स्वराज मंत्री पद भी नहीं दिया गया.

जरुर पढ़ें:  आपातकाल के 44 साल, जान जोखिम में डालकर आपातकाल से लड़े थे नरेन्द्र मोदी...
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here