आज का दौर पूरी तरह से सोशल मीडिया का हो गया है, Facebook, Whatsup, YouTube और twitter सोशल मीडिया के अहम हथियार बन चुके हैं। छोटी से लेकर बड़ी कोई भी खबर आज हमें इन सोशल साइट्स पर हर समय मिल जाती है| फिर वो खबर कहीं से भी आई थोड़ी ही देर में यह सभी सोशल साइट्स पर मिलने लगती है और हवा की तेज़ गति से पूरे विश्व में वायरल हो जाती है।

लेकिन सोशल मीडिया पर मिलने वाली ख़बरों में ज्यादातर ख़बरें झूठी या फेक होती हैं, इनकी सच्चाई का कोई सबूत नहीं होता। ये ख़बरें एक तरफ तो समाज में अफवाहें फैलाती हैं वहीं दूसरी ओर ये ख़बरें आपसी मतभेद और लडाई का कारण भी बनती हैं।

जरुर पढ़ें:  सोशल मीडिया पर वायरल इस कपल की तस्वीर की ये है पूरी सच्चाई

अगर आपको इन झूठी ख़बरों की पहचान करनी है या सच्चाई का पता लगाना हो, तो ये बातें आपको बहुत मदद कर सकती हैं-

हेडलाइन (शीर्षक) को लेकर सजग रहें: इन फर्जी ख़बरों में बड़े बड़े चौका देने वाले हेडलाइन दी जाती है, ताकि व्यूअर को अपनी तरफ आकर्षित किया जा सके|

यूआरएल को गौर से देखें: कई बार तो ये साइट्स ऐसे URL एड्रेस भेजती हैं जो विश्वसनीय साइट् के कॉपी होते हैं जिसके बाद यूजर इनकीबातों में आ जाता है इसके लिए आपको about लिंक पर क्लिक करके इसके  विश्वसनीयता का पता लगा सकते हैं|इन साइट्स के नीचे सर्टिफाइड आप्शन से इनकी सही होना पता लगता है|

जरुर पढ़ें:  माता- पिता क्यों पालते हैं ऐसी औलाद, जो आगे चलकर कर दे उन्हीं की हत्या

तस्वीरों पर ध्यान दें: फर्जी ख़बरों में अक्सर ऐसी तस्वीरें व वीडियो पोस्ट किए जाते हैं जिनसे छेड़छाड़ की गई होती है। कई बार तस्वीरें असली भी हो सकती हैं लेकिन उनका कहानी से कोई संबंध नहीं होता है। तस्वीरों या वीडियो के बारे में आप जानकारी खोजकर निकाल सकते हैं कि उनका सोर्स क्या है।

तारीख जांचें: फर्जी न्यूज़ स्टोरी में ऐसी टाइमलाइन हो सकती है जिसका कोई मतलब ना हो। या फिर हो सकता है कि तारीख को बदल दिया गया हो।

सबूत का पता करें: जिस लेखक के नाम से ख़बर लिखी गई है, उसके सोर्स के बारे में पता करें कि वो सही है या नहीं। अगर आपको सोर्स के बारे में सही सबूत नहीं मिलते या फिर ख़बर में किसी लेखक का नाम नहीं है तो यह एक फर्जी ख़बर होने के संकेत हैं।

दूसरी ख़बरें देखें: अगर आप पाते हैं कि एक ख़बर को किसी और न्यूज़ सोर्स ने कवर नहीं किया है, तो ये संकेत हो सकते हैं कि ख़बर फर्जी है। अगर किसी ख़बर की रिपोर्ट कई सारे सोर्स ने दी है तो इसके सच होने के दावा ज़्यादा मजबूत हो जाता है।

जरुर पढ़ें:  इंदौरी लड़के का कमाल- देश पर किया कब्जा, खुद को घोषित किया राजा

इन सब बातों का आप अगर ध्यान रखेंगे तो हो सकता है कि आप सोशल मीडिया पर फैलने वाली अफवाहों से अपने को और दूसरों को भी सतर्क रख पाएं |