उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बार में सोशल मीडिया पर लिखने वाले पत्रकार प्रशांत की गिरफ्तारी पर बवाल मचा हुआ है. लेकिन इस मामले ने तब राजनीतिक रुप एख्तियार कर लिया जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस पर तंज कसा. मंगलवार को राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि अगर इस तरह उनके खिलाफ लिखने वाले पत्रकारों पर एक्शन शुरू हुआ तो मीडिया हाउस में स्टाफ की कमी पड़ जाएगी ।

कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट किया, ‘अगर हर पत्रकार जो मेरे खिलाफ फर्जी आरोप लगाकर, RSS/BJP का प्रायोजित एजेंडा चलाते हैं, अगर उन्हें जेल में डाल दिया गया तो न्यूज़पेपर और न्यूज़ चैनलों में स्टाफ की कमी पड़ जाएगी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मूर्खतापूर्ण रवैया अपना रहे हैं, गिरफ्तार किए गए पत्रकारों को तुरंत रिहा करने की जरूरत है.’

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के खिलाफ लिखने वाले पत्रकार को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था, जिसके बाद उत्तर प्रदेश के पत्रकारों ने इसका जमकर विरोध किया. और योगी सरकार को भी खूब कोसा. लेकिन इन सबके बाद अब इस मामले ने राजनीतिक रुप ले लिया है ।

जरुर पढ़ें:  दिल्ली की जहरीली हवा से, ये चीजें रखेंगी आपको हैल्थी-ज़रुर पढें

इतना ही नहीं, पत्रकार की गिरफ्तारी के बाद योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर से भी दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था. गोरखपुर के पीर मोहम्मद और धर्मेंद्र भारती ने भी सीएम योगी के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट लिखा था. पत्रकार की गिरफ्तारी का मामला तो देश की सर्वोच्च अदालत यानी सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है, जिसपर मंगलवार को सुनवाई करते हुए अदालत ने भी इस मामले पर पत्रकार को जल्द से जल्द रिहा करने की बात कही है.
यूपी में ना सिर्फ पत्रकार और आम व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया. बल्कि योगी आदित्यनाथ पर लगे आरोपों को लेकर ही एक न्यूज़ चैनल ने डिबेट करवाई जो भारी साबित हुई. यूपी पुलिस ने न्यूज़ चैनल के हेड और संपादक को भी गिरफ्तार कर लिया गया था ।

जरुर पढ़ें:  कमेटी की बैठक बनी जंग का मैदान, कांग्रेसियों में हुई हाथापाई

इन सबको देखकर ये साफ साबित हो गया है कि उत्तर प्रदेश में योगी राज में किस तरीके की कानून व्यवस्था को फॉलो किया जा रहा है ।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here