वास्कोडिगामा, कोलंबस इन नामों से तो आप वाकिफ होंगे ही, इन नामों के साथ एक नाम और याद कर लीजिए, सुयश दीक्षित। आप कहेंगे ये कौन हैं ? हैं तो, मध्यप्रदेश के इंदौर के निवासी लेकिन इन्होंने एक नए देश की खोज तो नहीं की हां इन्होने एक नया देश इजाद कर दिया है और ये उस देश के स्वघोषित राजा भी बन गए हैं। देश भी कोई ऐसा वैसा नहीं आंतिकियों से घिरे मिस्त्र और सूडान के बीच जाकर इन्होंने एक देश पर अपना झंडा गाड़कर इसपर कब्जा जमा लिया है। सूडान और मिश्र के बीच निर्जन भूभाग को सुयश ने “किंगडम ऑफ दीक्षित” नाम दिया है। ये असंभव सा दिखने वाला कारनामा करके इंदौरी सूयश दीक्षित पूरी दुनिया में सुर्खियां बंटोर रहे हैं।

जरुर पढ़ें:  अब मत कहना, कि पेंड़ों पर पैसे उगते हैं क्या ? यहां पेड़ पर सिर्फ पैसे ही उगते हैं!
राजा सूयश अपने देश के झंडे के साथ

800 वर्ग मील की इस निर्जन भूमि तक पहुंचने के लिए सुयश ने 6 घंटे में 319 किलोमीटर की दुर्गम और जोखिमभरी यात्रा की और इस भूमि पर अपनी सल्तनत काबिज कर ली। उन्होंने इस गैर दावाग्रस्त भूमि पर अपना दावा पेश करने के लिए रेतीली ज़मीन पर एक बीज डालकर इस पर आपना आधिकारिक दावा पेश कर दिया है।

स्वघोषित राजा सुयश अपने परिवार के साथ

लगे हाथ सुयश ने अपने पापा को इस निर्जन देश का प्रधानमंत्री भी घोषित कर दिया है, हालांकि अभी इस देश की जनसंख्या सिर्फ एक है और भी खुद सुयश। उन्होंने अपने देश की राजधानी का नाम सुयशपुर और राष्ट्रीय पशु छिपकली को चुना है और तो और उन्होंने देश का मुख्य पकवान इंदौरी पोहा रखा है। साथ ही अगर आप सुयशपुर के वासी बनने के इच्छुक हैं, तो उन्होंने इसके लिए अपने देश की नागरिकता देने के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया की भी शुरु कर दी है। जिसके ज़रिए आप उस देश के निवासी बन सकते हैं। साथ ही सुयष अपने देश को सामान्य और व्यवस्थागत रूप से चलाने के लिए नई भर्तियां करने की योजना भी बना रहे हैं।

जरुर पढ़ें:  ओह! तो यहां से आई थी, आपके फोन वाली ये 'स्माइली' इमोजी

एक और अहम बात जो सामने निकल कर आई है वो ये, कि सूडान और मिश्र जैसे देशों में अगर किसी जगह या क्षेत्र के एक से अधिक दावेदार हैं, तो उसपर अपना अधिकार साबित करने के लिए एक ही रास्ता होता है और वो है युद्ध। अगर सुयश जी के सामने ऐसी कोई समस्या आती है, तो वे इसका हल क्या चाय पीते हुए करना पसंद करेंगे? या फिर इनकी पास कोई कागज़ी सेना भी तैयार है?

Loading...