संजय गांधी ने उसे एक विज्ञापन में तौलिए में लिपटा हुआ देखा और पहली ही नज़र में उसे अपना दिल दे बैठे थे। सुनने में ये भले ही फिल्मी लगे लेकिन है हकीकत। मेनका गांधी को संजय गांधी से ऐसे ही प्यार हुआ था। मेनका गांधी तब कुछ 17 साल की होगी। और 12वीं पास करने के बाद उन्होंने कॉलेज में एडमीशन लिया ही था। मेनका उस दौर में इतनी खूबसूरत थीं, कि कॉलेज में उन्हें ब्यूटी क्वीन के खिताब से नवाजा गया था। इसके बाद मेनका गांधी के पास कई मॉडलिंग के ऑफर आए और उन्होंने डीसीएम कंपनी के लिए एक टॉवल का ऐड किया था।

टॉवल की एड में मेनका (Old indian ads)

मेनका गांधी का ये विज्ञापन ही उनके जिंदगी में टर्निंग पॉइंट बनकर आया और आज वो देश के सबसे प्रतिष्ठित और बड़े राजनीतिक परिवार की बहू हैं। मेनका गांधी ने जब ये विज्ञापन किया था, उस दौर में ऐसे विज्ञापन करना बड़े ही हिम्मत का काम था। क्योंकि महिलाओं का ऐसे तौलिया लपेटकर सार्वजनिक आना लोगों की सोच के परे था। आपको जानकर हैरानी होगी, कि जब संजय गांधी की मुलाकात मेनका गांधी से हुई थी, तब उम्र में मेनका संजय से 10 साल छोटी थीं, फिर भी संजय गांधी ने उनसे शादी की।

जरुर पढ़ें:  क्रांति का जनक एक पूर्व राष्ट्रपति, जिसने 35000 औरतों के साथ शारीरिक संबंध बनाए
मेनका और संजय गांधी की शादी

किस्सा 1973 का है, जब मेनका और संजय गांधी की पहली मुलाकात हुई थी। दरअसल मेनका की कजिन वीनू कपूर और संजय गांधी स्कूली दोस्त थे। संजय की मुलाकात मेनका से वीनू के वजह से ही हुई थी। मेनका और संजय पहली बार एक कॉकटेल पार्टी में मिले थे, जिसे वीनू की शादी के सिलसिले में मेनका के घर रखा गया था। उस मुलाकात में दोनों दिनभर साथ रहे और अगले दिन भी उनकी मुलाकात हुई। बस यहीं से दोनों के बीच मुलाकातों का सिलसिला चल पड़ा और प्यार परवान चढ़ते गया। प्यार इतना गहरा था, कि जब संजय गांधी का हार्निया का ऑपरेशन हुआ, तब मेनका कॉलेज से सीधे उनसे मिलने अस्पताल जाया करती थीं।

जरुर पढ़ें:  कश्मीर के महाराजा हरि सिंह डोगरा को इतिहास ने विलेन बनाया, लेकिन सच ये है?
मेनका और संजय गांधी

मशहूर लेखक खुशवंत सिंह ने अपनी ऑटोबायोग्राफी ‘ट्रुथ, लव एंड अ लिटिल मैलिस’  में भी संजय गांधी की इस लव स्टोरी का जिक्र किया है। उनके मुताबिक संजय एक बेहद शर्मीले लड़के थे और इसीलिए वे मेनका से रेस्टोरेंट की जगह अपने या उनके घर पर ही मिलना पसंद करते थे। एक साल बाद ही उन्होंने मेनका को अपने घर ऑफिशियली लंच पर बुलाया और अपनी मां इंदिरा गांधी से उनकी मुलाकात करवाई। इसके तुरंत बाद इंदिरा ने दोनों की 29 जुलाई 1974 को पीएम आवास पर सगाई कर दी थी। औक 23 सितंबर 1974 को दोनों की विवाह बंधन में बंध गए। आपको जानकर हैरानी होगी, कि मेनका सिर्फ इंटरमीडियट तक ही पढ़ीं हैं, क्योंकि इसके बाद उनकी पढ़ाई छूट गई थी।

जरुर पढ़ें:  इसलिए 14 अगस्त को ही आजादी का जश्न मना लेता है पाकिस्तान
मेनका गांधी
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here